Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात में हर दिन 20 लोग करते हैं आत्महत्या, 2 साल में आसमान में पहुंचा अपराध का आकड़ा

गुजरात में हर दिन 20 लोग करते हैं आत्महत्या, 2 साल में आसमान में पहुंचा अपराध का आकड़ा

0
2692

गांधीनगर: गुजरात को विकास का मॉडल बता बताकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2014 में केंद्र की सत्ता में विराजमान हो गए. मगर जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है. गुजरात सरकार जहां करोड़ो रुपया के कर्ज में डूबी हुई है. वहीं आम आदमी बुनियादी सुविधाओं के लिए तरस रहे हैं. सरकार बजट में बड़े-बड़े दावे कर रही है लेकिन किसान फसल का सही दान नहीं पाने से अपनी फसल को जानवरों को खिलाने को मजबूर हो रहा है. गुजरात की इस जमीनी हकीकत को देखने के बाद देश को विकास का मॉडल दिखाने वाले इस राज्य की एक और तस्वीर उभरकर सामने आती है. ऐसे में एक और खुलासा विकास मॉडल के तह को टटोलने को मजबूर कर रही है जिसमें हर दिन 20 लोग आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं.

गुजरात विधानसभा में इन दिनों बजट सत्र का प्रश्नकाल चल रहा है ऐसे में विकास की बड़ी-बड़ी बात करने वाली गुजरात सरकार ने विधानसभा में जो आकड़े पेश किये हैं वह चौकाने वाले हैं. पिछले दो वर्षों में गुजरात विधानसभा में सरकार ने जो आंकड़े पेश किए हैं उसके मुताबिक चोरी के 25723 और सेंध काटकर चोरी का 7611 मामले , जबकि 14702 लोगों ने आत्महत्या की है. इस हिसाब से देखा जाए तो हर दिन गुजरात में 20 लोग आत्महत्या कर रहे हैं.

गुजरात विधानसभा में कांग्रेस द्वारा अपराध दर की जानकारी भी मांगी गई थी. जिसके जवाब में, सरकार ने दो सालों में 2491 लूंट, हत्या 2034, डकैती 559, चोरी 25723, बलात्कार 2720, अपहरण 5879, आत्महत्या 14702, सेंध काटकर चोरी 7611, रोयोटिंग 3305, आकस्मिक मृत्यु 28298, अप्राकृतिक मृत्यु दर 46264 मामले दर्ज किए गए हैं.

राज्य में हर दिन 20 लोग करते हैं आत्महत्या

गुजरात विधानसभा में सरकार के द्वारा पेश किए गए आकड़ों के मुताबिक 2 साल में गुजरात में 17702 आत्महत्या का मामला दर्ज किए गए हैं. इस तरह देखा जाए तो हर दिन 20 लोग आत्महत्या कर अपनी जिंदगी से हाथ धो देते हैं

हर दिन 2-3 हत्याएं होती हैं

– 2 साल में राज्य में 2,034 हत्याएं हुई हैं. इस तरह देखा जाए तो हर दिन 2-3 हत्याएं होती हैं.
– 2 साल में राज्य में 2,720 बलात्कार के मामले सामने आए. प्रतिदिन के हिसाब से देखा जाए तो 3-4 रेप होते हैं.
– राज्य में 2 साल में 3,305 दंगों की घटनाएं दर्ज की गईं यानी हर दिन 4-5 घटनाएं होती हैं.
– राज्य में दो साल में 14,702 लोगों ने आत्महत्या की हैं.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की रिपोर्ट में चौकाने वाला खुलासा

जीवन कुदरत की बनाई सबसे खूबसूरत चीज है, इसके बावजूद इंसान इसे खत्म करने पर तुला हुआ है. विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के मुताबिक पूरी दुनिया में हर साल करीब आठ लाख लोग खुदकुशी करते हैं. इस तरह देखा जाए तो हर 40 सेकेंड में एक व्यक्ति आत्महत्या के कारण अपनी जान गंवाता है. आपको जानकार हैरानी होगी कि खुदकुशी करने वाले ज्यादातर लोग लो एंड मिडिल इनकम देशों से ताल्लुक रखते हैं. यानी जिन देशों में लोगों की प्रतिव्यक्ति आय बहुत ज्यादा कम है, वहां खुदकुशी के मामले ज्यादा देखने को मिलते हैं. खुदकुशी करने वाले इस वर्ग के लोगों की तादाद 79 प्रतिशत है. खुदकुशी करने वाले लोगों की संख्या पूरी दुनिया में युद्ध और नरसंहार में मारे गए लोगों से भी कहीं ज्यादा है.

गुजरात के उप मुख्यमंत्री को मिला विपक्ष का साथ, कांग्रेस ने विधानसभा में दिया CM बनने का ऑफर