Gujarat Exclusive > देश-विदेश > टिकटॉक, इंस्टाग्राम और यूट्यूब के 23.5 करोड़ यूजर्स का डेटा हुआ लीक

टिकटॉक, इंस्टाग्राम और यूट्यूब के 23.5 करोड़ यूजर्स का डेटा हुआ लीक

0
321
  • 100 मिलियन इंस्टाग्राम यूजर्स का डाटा लीक
  • 42 मिलियन टिकटॉक यूजर्स का डाटा सार्वजनिक
  • 4 मिलियन यूट्यूब यूजर्स की निजी जानकारी खतरे में पड़ी

अगर आप सोशल मीडिया इस्तेमाल करते हैं तो यह खबर आपके लिए है. खबर है कि टिकटॉक, इंस्टाग्राम और यूट्यूब के 23.5 करोड़ यूजर्स का डेटा और पर्सनल प्रोफाइल लीक हो गया है. इस लीक से हाथ लगे सारे डेटा को साइबर क्रिमिनल्स ने सेल के लिए डार्क वेब पर उपलब्ध करा दिया है.
Comparitech के रिसर्चर्स की मानें तो इस डेटा लीक की वजह एक अनसिक्यॉर्ड डेटाबेस है.
फोर्ब्स की रिपोर्ट में सिक्यॉरिटी रिसर्चर्स के हवाले से कहा गया है कि लीक हुआ डेटा अलग-अलग डेटासेट्स पर पहुंच चुका है. इनमें से जो दो सबसे खास डेटा सेट हैं उन पर लगभग 10 करोड़ यूजर्स का डेटा सेव है.
इसमें उन यूजर्स के भी प्रोफाइल हैं जिन्हें इंस्टाग्राम से हटा दिया गया है.

यह भी पढ़ें: तेलंगाना: जलविद्युत संयंत्र में भीषण आग, अब तक निकाले गए 6 शव

हाल ही डार्क वेब के फोरम पर 15 बिलियन लॉगिन डीटेल लीक हुई थी जिनमें से 386 मिलियन डाटा को हैकर ने सार्वजनिक कर दिया था.
इस डाटा लीक पर अभी तक टिकटॉक, इंस्टाग्राम या यूट्यूब का कोई बयान नहीं आया है.

कैसे लीक हुआ डेटा?

खबरों के मुताबिक, लीक का कारण अनसिक्योर डेटाबेस बताया जा रहा है.
अनसिक्योर डेटाबेस आजकल डाटा लीक का सबसे बड़ा कारण बना है.
कुछ दिन पहले ही भारत में यूपीआई डाटा लीक की रिपोर्ट सामने आई थी.
यूपीआई डाटा लीक भी अनसिक्योर डाटाबेस के कारण ही हुआ था.
इंस्टाग्राम, यूट्यूब और टिकटॉक यूजर्स के डाटा लीक के बारे में कॉमपेरीटेक के एक रिसर्चर ने एक अगस्त को ही जानकारी दी थी.

क्या जानकारी लीक हुई?

खबरों के मुताबिक, लीक डाटा में प्रोफाइल नेम, पूरा असली नाम, प्रोफाइल फोटो, अकाउंट डिस्क्रिप्शन, अकाउंट इंगेजमेंट, फॉलोअर्स की संख्या, फॉलोअर्स ग्रोथ रेट, ऑडियंस एज, लोकेशन, लाइक्स जैसी जानकारियां शामिल हैं.
100 मिलियन इंस्टाग्राम यूजर का डाटा लीक हुआ है जिनमें यूजर्स की प्रोफाइल की पूरी जानकारी है.
वहीं 42 मिलियन टिकटॉक यूजर्स का डाटा लीक हुआ है, जबकि 4 मिलियन यूट्यूब यूजर्स की निजी जानकारी खतरे में है.

ये लीक जानकारियां हैकर्स और स्कैमर्स के लिए आपके खजाने की चाबी से कम नहीं हैं.
इन जानकारियों का इस्तेमाल करके हैकर्स आपको शिकार बना सकते हैं, ब्लैकममेल कर सकते हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

फेसबुक विवाद: शशि थरूर को आईटी मामलों की संसदीय समिति से हटाने की मांग