Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात के गीर में 25 शेरों की मौत, जसाधार में पशु चिकित्सकों की टीम बुलाने पर खड़ा हुआ सवाल

गुजरात के गीर में 25 शेरों की मौत, जसाधार में पशु चिकित्सकों की टीम बुलाने पर खड़ा हुआ सवाल

0
4158

गुजरात के धारी-गीर के पूर्व का वन क्षेत्र शेरों के लिए नरक साबित हो रहा है, पिछले दो महीनों के भीतर 25 शेरों की अचानक मौत होने का मामला सामने आया है. जिसमें से कुछ शेरों की मौत शंकास्पद होने से वन विभाग हरकत में आ गया है. लेकिन वन विभाग शेरों के मौत के पीछे किसी संक्रमित बीमारी के होने की बात से इनकार कर रहा है.

मिल रही जानकारी के अनुसार, 2 महीने में 25 शेरों के मौत के बाद वन विभाग हरकत में आते हुए दो दिन पहले 8 शेर और 8 शेर शवकों को जशाधार पशु देखभाल केंद्र में स्थानांतरित कर दिया गया था. जिसके बाद यहां पर भी एक और शेर शावक की मौत होने के बाद जूनागढ़ सक्करबाग चिड़ियाघर सहित अन्य चिकित्सा देखभाल केंद्रों से मेडिकल टीम को जसाधार बुलाया गया है.

माना जा रहा है कि कि शेरों के शावक की मौत के पीछे रक्त में कम हीमोग्लोबिन था. लेकिन जिस तरीके से जसाधार में पशु चिकित्सकों के बड़े काफिले को बुलाया गया उसके देखकर किसी गंभीर मामले की अशांका जताई जा रही है.

इस मामले को लेकर राज्यसभा सांसद परिमल नाथवाणी ने ट्वीट कर कहा, “इन दिनों पूरी दुनिया घातक कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ रहा है, ऐसे में गीर के पूर्वी रेंज में पिछले 2 महीनों के भीतर कैनाइन डिस्टेंपर से 25 शेरों की मौत हुई है. इसके अलावा 18 अन्य बीमार शेरों को वन विभाग ने पकड़ा है, इन शेरों का इलाज होने के बाद उन्हें छोड़ दिया जाएगा. उन्होंने वन विभाग से तत्काल कार्रवाई करने को कहा“.

मामले को लेकर वन विभाग द्वारा यह खुलासा किया गया है कि हर 3 में से एक शेर शावक ही सर्वाइव रह सकता है. यह एक प्राकृतिक घटना है. कैनाइन डिस्टेंपर वायरस की वजह से किसी शेर की मौत नहीं हुई है.

गौरतलब हो कि आज से डेढ़ साल पहले भी गीर के दलखाणीया रंज में कैनाइन डिस्टेंपर नामक वायरस की वजह से शेरों के मौत का मामला सामने आया था. जिसके बाद वन विभाग हरकत में आते हुए विशेषज्ञों की टीम को देहरादून से बुलाया था. ऐसे में एक बार फिर से शेरों के कैद में रखने से वन विभाग की कार्यवाही पर सवाल उठना स्वाभाविक हो गया है.

पिछले 12 घंटों में गुजरात में कोरोना के 127 नए मामले, संक्रमितों की संख्या दो हजार के पार