Gujarat Exclusive > देश-विदेश > झारखंड के 30 मजदूर ओमान में बंधक, CM हेमंत सोरेन ने विदेश मंत्री से मांगी मदद

झारखंड के 30 मजदूर ओमान में बंधक, CM हेमंत सोरेन ने विदेश मंत्री से मांगी मदद

0
283

ओमान में पिछले सात महीनों से झारखंड के 30 मजदूरों को बंधक बनाए जाने की खबर है. इस मामले में राज्य सरकार ने संज्ञान लेते हुए विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर से मदद मांगी है. झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन  ने ट्वीट के जरिए विदेश मंत्री से आग्रह किया है कि वे ओमान में फंसे झारखंड के 30 लोगों की मदद के लिए मस्कट में भारतीय दूतावास को निर्देशित करते हुए सहायता प्रदान करें. खबरों के मुताबिक झारखंड के 30 मजदूर ओमान में पिछले सात महीने से बंधक बने हुए हैं.

रोजी-रोटी कमाने ओमान गए मजूदरों को राजधानी मस्कट में बंदी बनाकर रखा गया है. राज्य के हजारीबाग, कोडरमा, गिरिडीह और बोकारो जिले से 30 मजदूर रोजी-रोटी के लिए ओमान की राजधानी मस्कट गए थे. ये सभी जिस कंपनी में काम करते हैं, उसने सबको एक कमरे में बंद कर रखा है और इन्हें भरपेट भोजन भी नहीं दिया जा रहा है. 24 घंटे में सिर्फ एक बार खाना दिया जा रहा है.

मुख्यमंत्री सोरेन ने भारतीय मजदूरों का शोषण करने वाली संबंधित कंपनी पर भी उचित कार्रवाई करने का भी आग्रह किया है. मुख्यमंत्री के इस ट्वीट पर मस्कट में भारतीय दूतावास ने भी जवाब दिया है और अपने ट्वीट में लिखा है, ‘यह मामला हाल ही में दूतावास के संज्ञान में आया है. हम श्रमिकों के साथ-साथ संबंधित ओमानी अधिकारियों के संपर्क में हैं और कानूनी सलाह भी दी है. हम इन श्रमिकों के मुद्दों के समाधान की दिशा में आवश्यक समर्थन का विस्तार करेंगे.’

खबरों के मुताबिक कंपनी ने सात महीने से उन्हें वेतन भी नहीं दिया है. जब भी वे लोग वेतन मांगते हैं, उन्हें धमकी दी जाती है. मजदूरों ने किसी तरह फोन कर परिजनों से संपर्क साधकर इस मामले की जानकारी दी है. बताया गया है कि 2017 में हजारीबाग के विष्णुगढ़, गिरिडीह के बगोदर, बेरमो, नावाडीह, बोकारो और कोडरमा के मजदूरों को एक कंपनी में ट्रांसमिशन लाइन में काम करने का लालच देकर ओमान ले जाया गया. जून-2019 तक काम के बदले थोड़ा-बहुत वेतन मिला. जुलाई से वेतन बंद कर दिया गया.