Gujarat Exclusive > देश-विदेश > चीन से भारत के लिए 6.5 लाख कोरोना टेस्टिंग किट रवाना, जांच में आएगी तेजी

चीन से भारत के लिए 6.5 लाख कोरोना टेस्टिंग किट रवाना, जांच में आएगी तेजी

0
911

चीन के ग्वांग्झू एयरपोर्ट से गुरुवार सुबह कोरोना वायरस के इलाज में इस्तेमाल होने वाली किट्स की खेप भारत के लिए रवाना की गई. इस खेप में 650,000 टेस्टिंग किट्स शामिल हैं. इसके अलावा चीन से भारत के लिए रवाना इस खेप में रैपिड एंडीबॉडी टेस्ट और आरएनए एक्सट्रैक्शन किट्स भी शामिल है. चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिसरी ने इसकी जानकारी दी.

हालांकि चीन की इन किट्स की गुणवत्ता पर सवाल उठ रहे हैं. कई देशों ने चीन से मंगाए जाने वाले सामान पर घटिया क्वालिटी के हाने का आरोप लगाया है. हालांकि भारत की तरफ से ऐसी कोई शिकायत सामने नहीं आई है लेकिन यूरोप के कई देशों ने इस पर चिंता जताई है. कोरोना वायरस की जांच में लगने वाले उपकरण या स्वास्थ्यकर्मियों की सुरक्षा किट पर उठे सवाल को लेकर चीन ने कहा है कि ऐसे सामान उन्हीं कंपनियों से आयात किए जाएं जिन्हें चीन सरकार की ओर से इजाजत मिली हो.

मालूम हो कि पूरी दुनिया में उत्पादन कार्य एकदम ठप्प पड़ा हुआ है लेकिन दो महीने कोरोना महामारी से जूझने के बाद चीन की कई फैक्ट्रियों में उत्पादन का काम शुरू हो गया है. इसे देखते हुए चीन ज्यादा से ज्यादा उत्पादन कर दुनिया को बेचना चाहता है. कोरोना वायरस की ऐसी हालत में दुनिया के अधिकांश देशों को मेडिकल उपकरण की जरूरत है. इनमें वेंटिलेटर्स और पर्सनल प्रोटेक्शन किट (पीपीई) की भूमिका काफी अहम है जिसे चीन पूरी दुनिया में सप्लाई कर रहा है.

इटली और स्पेन जैसे देशों ने चीन पर आरोप लगाया है कि वहां से आयात होने वाले मेडिकल उपकरण घटिया क्वालिटी के हैं. पीपीई, टेस्टिंग किट्स और वेंटिलेटर्स की क्वालिटी पर सवाल उठने के बाद चीन के निर्यात पर भी हल्का असर देखा जा रहा है. इस आरोप पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजिय ने कहा कि चीनी सरकार इन शिकायतों पर गौर कर रही है और जल्द इस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. दूसरी ओर चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिसरी ने कहा कि भारत ने 15 मिलियन पर्सनल प्रोटेक्शन किट का ऑर्डर दिया है. इस किट का इस्तेमाल भारत में कोरोना वायरस के इलाज में होगा. इससे पहले भी टेस्टिंग किट्स के ऑर्डर दिए जा चुके हैं.

उधर चीन से 50 हजार पीपीई किट्स की एक खेप असम पहुंच चुकी है. ऐसे में असम देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है जिसने चीन से खुद 50 हजार किट्स हासिल की हैं. हालांकि अब पीपीई की नई खेप आने के बाद देश के दूसरे राज्यों में भी टेस्टिंग की प्रक्रिया तेज होने की उम्मीद है.

डोनाल्ड ट्रंप ने माना, कोरोना महामारी के सबसे बुरे दौर से संभवत: निकल चुका है अमेरिका