Gujarat Exclusive > देश-विदेश > NID अहमदाबाद की मदद से बदल जाएगी 90 साल पुरानी देश की पहली सुपरफास्ट ट्रेन

NID अहमदाबाद की मदद से बदल जाएगी 90 साल पुरानी देश की पहली सुपरफास्ट ट्रेन

0
747

महाराष्‍ट्र में मुंबई और पुणे के बीच चलने वाली डेक्‍कन क्‍वीन एक्‍सप्रेस भारतीय रेलवे की सबसे समृद्ध विरासत वाली एक सबसे प्रतिष्ठित ट्रेन है. 90 साल पुरानी इस ट्रेन का अब जर्मन डिजाइन लिंक हॉफमैन बुश (LHB) डिब्‍बों के साथ रीडिजाइन करने का प्रस्‍ताव है. LHB डिब्‍बे बेहतर सुरक्षा विशेषताओं और बेहतर यात्रा अनुभव के साथ बेहतर सस्‍पेंशन प्रणाली और यात्रा की बेहतरीन सुविधाओं से लैस हैं. देश की की पहली सुपरफास्‍ट ट्रेन है जिसकी तस्वीर बदलने में नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ डिजाइन (NID) अहमदाबाद की अहम भूमिका होगी.

ये होंगे बदलाव

इस ट्रेन (गाड़ी संख्‍या 12123/12124) के बाहरी डिजाइन का कायाकल्‍प प्रस्‍तावित है जिसे इस ट्रेन के LHB रेक में उपयोग किया जाएगा. वर्तमान में डेक्‍कन क्‍वीन में लाल बैंड के साथ नीले और सफेद रंग की विशिष्‍ट रंग वाली स्टाफ वर्दी का उपयोग होता है. इसके अलावा इस ट्रेन के प्रस्‍तावित LHB रीडिजाइन के लिए नए लोगो का भी प्रस्‍ताव किया गया है. मध्‍य रेलवे इस ट्रेन का परिचालन करती है. मध्‍य रेलवे ने डेक्‍कन क्‍वीन के इस प्रस्‍तावित LHB रीडिजाइन के लिए बाहरी डिजाइन के कायाकल्‍प की प्रक्रिया शुरू कर दी है. इस ट्रेन के साथ रेल यात्रियों के गहरे भावनात्‍मक जुड़ाव को देखते हुए मध्‍य रेलवे ने प्रस्‍तावित वर्दी के बाहरी डिजाइन के बारे में ग्राहकों से राय मांगी थी.

NID अहमदाबाद करेगा मदद

रेलवे बोर्ड की सलाह पर मध्‍य रेलवे ने भारत सरकार के वा‍णिज्‍य और उद्योग मंत्रालय के तहत स्‍वायत्त संस्‍थान एनआईडी, अहमदाबाद को वर्दी के डिजाइन के बारे में पेशेवर जानकारी उपलब्‍ध कराने का कार्य सौंपा है. मध्‍य रेलवे ने एनआईडी को सभी आठ विभिन्‍न वर्दी डिजाइन, लोगो डिजाइन और अन्‍य संबंधित सामग्री उपलब्‍ध कराई है. इसके अनुसार ही एनआईडी की टीम ने मौजूदा ट्रेन का निरीक्षण करने के लिए मुंबई का दौरा किया और इस ट्रेन में यात्रा के दौरान ग्राहकों के साथ बातचीत करके पहला अनुभव प्राप्‍त किया. टीम ने यूनेस्‍को प्रमाणित सीएसएमटी भवन का भी निरीक्षण किया. इस यात्रा के दौरान टीम डाटा संग्रह, माप, फोटोग्राफी, फिल्‍मांकन, अधिकारियों और यात्रियों के साथ बातचीत कर रही है.

ट्रेन का इतिहास रहा है शानदार

यह ट्रेन 1930 से ही नियमित ग्राहक सेवा वाली है. इसके नाम भारत की पहली सुपरफास्‍ट ट्रेन, पहली लंबी दूरी की विद्युत ट्रेन, पहली गलियारेदार गाड़ी, महिलाओं के ‍लिए अलग डिब्‍बे वाली पहली ट्रेन और पहली डाइनिंग कार वाली ट्रेन होने के रिकॉर्ड दर्ज हैं.

मोदी सरकार ने ईपीएफ पर घटाई ब्याज दर, 6 करोड़ कर्मचारियों को दिया झटका