Gujarat Exclusive > देश-विदेश > जब नायक फिल्म की तर्ज पर एक युवक ने संभाली यूपी ट्रैफिक पुलिस की कमान…

जब नायक फिल्म की तर्ज पर एक युवक ने संभाली यूपी ट्रैफिक पुलिस की कमान…

0
393

अगर आपने अनिल कपूर की अदाकारी वाली नायक, द रीयल हीरो फिल्म देखी होगी तो आप इस फिल्म की कहानी से अच्छी तरह वाकिफ होंगे. फिल्म में अनिल कपूर को एक दिन का मुख्यमंत्री बनाया जाता है और वह एक दिन में वो काम कर दिखाते हैं जो नियमित मुख्यमंत्री (अमरिश पूरी) नहीं कर पाते. वो फिल्म थी लेकिन ठीक उसी तरह का नजारा मंगलवार को फिरोजाबाद जिले के टूंडला कस्बे में तब देखने को मिला, जब यातायात अव्यवस्था की फरियाद लेकर पहुंचे युवक को ही एसएसपी ने दो घंटे का ‘ट्रैफिक सीओ’ बना दिया.

शिकायत पर मिला प्रस्ताव

दरअसल मंगलवार को टूंडला तहसील परिसर में आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस में अलाबलपुर के सोनू चौहान अक्सर सड़क पर लगने वाले जाम से छुटकारा दिलाने की फरियाद लेकर सीनियर पुलिस ऑफिसर के सामने पेश हुए. उन्होंने अपनी शिकायत में कहा, आड़ा-तिरछा खड़े हो रहे वाहनों से जाम लग जाता है और एंबुलेंस तक नहीं गुजर पाती. इस पर एसएसपी सचिंद्र पटेल ने कहा, यदि ट्रैफिक संभालने की जिम्मेदारी तुम्हें दे दी जाए तो तुम क्या करोगे?” युवक ने पहले तो अपने सुझाव दिए, फिर कहा, “मैं एक दिन में व्यवस्था दुरुस्त कर दूंगा.”

दो घंटे में चाक-चौबंद कर दी यातायात व्यवस्था

युवक का इतना कहना था कि एसएसपी ने उसे तुरंत दो घंटे का ‘ट्रैफिक सीओ’ नियुक्त कर मातहतों को दो घंटे तक युवक के सभी आदेश मानने का हुक्म सुना दिया. बस फिर क्या था युवक पुलिस की जीप में बतौर ट्रैफिक सुपरिटेंडेंट (सीओ) सवार हुआ और कोतवाल और दूसरे सब इंस्पेक्टर के साथ सुभाष चौराहा पहुंचकर उसने फिल्म ‘नायक’ के एक दिन के मुख्यमंत्री अनिल कपूर की तरह ताबड़तोड़ कार्रवाई शुरू कर दी. आगरा से एटा जाने वाली बसों को सड़क से बस स्टैंड के अंदर करवाया और दोनों ओर लगे ठेलों और रेहड़ी को व्यवस्थित कर दो घंटे के कार्यकाल में चरमराई यातायात व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त कर दी. इस बीच यातायात नियम तोड़ने वाले आधा दर्जन से ज्यादा वाहनों का चालान भी काटा गया.

एसएसपी ने की सोनू की तारीफ

युवक के इस काम से खुश होकर फिरोजाबाद के एसएसपी सचिंद्र पटेल ने बुधवार को कहा, सोनू ने दो घंटे में वह कर दिखाया, जो हमारी ट्रैफिक पुलिस नहीं कर पाई. अब पुलिस में सोनू की कार्यक्षमता की छाप उतारी जाएगी और उससे मिले तजुर्बे के अनुसार ट्रैफिक व्यवस्था दुरुस्त रखी जाएगी.