Gujarat Exclusive > गुजरात > अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद गुजरात के प्रदेश अध्यक्ष और मंत्री की नियुक्ती

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद गुजरात के प्रदेश अध्यक्ष और मंत्री की नियुक्ती

0
401

गांधीनगर: डॉ. संजय सिंह चौहान (नडियाद) और हिमालय सिंह झाला (वडोदरा) को देश की प्रमुख छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (AVBP) का प्रदेश अध्यक्ष और प्रदेश मंत्री के रूप में चुना गया है. वर्ष 2019-20 तक के लिए इन दोनों नेताओं को निर्विरोध चुना गया है, इस नियुक्ती की जानकारी एबीवीपी प्रदेश कार्यालय की ओर से दी गई है.

इस सिलसिले में जानकारी देते हुए एबीवीपी कार्यालय के चुनाव अधिकारी परेशभाई त्रिवेदी ने कहा कि इन दोनों पदाधिकारियों का कार्यकाल 1 वर्ष का होगा. ये दोनों गुजरात के सूरत में 2 से 4 जनवरी 2020 को आयोजित होने वाली 51 वें गुजरात प्रदेश अधिवेशन में पद ग्रहण करेंगे.

डॉ. संजय सिंह प्रकाश सिंह चौहान वर्तमान में गुजरात के नव निर्वाचित प्रदेश अध्यक्ष हैं. जो मूल रूप से वल्लभीपुर, भावनगर के रहने वाले हैं, वह फिलहाल गुजरात टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ फार्मेसी विभाग में प्रोफेसर के रूप में सेवारत हैं. 2004 से वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के साथ सक्रिय रुप से जुड़े हैं. वह कर्णावती महानगर SFD संयोजक, जूनागढ़ जिला संयोजक, आनंद जिला अध्यक्ष, मंडल अध्यक्ष, प्रदेश उपाध्यक्ष जैसी विभिन्न जिम्मेदारियां निभा चुके हैं. वह फार्मेसी और डेंटल संकाय से 2004-05 के बीच गुजरात विश्वविद्यालय से छात्र सीनेट भी रह चुके हैं. डॉ. संजय चौहान फार्मेसी में मास्टर डिग्री और पीएचडी तक की उच्च शिक्षा हासिल की है. वह स्टार्टअप कंपनी स्पैरो हेल्थ एलएलपी के संस्थापक निदेशक हैं. इतना ही नहीं वह पिछले 10 वर्षों से गुजरात में एबीवीपी द्वारा आयोजित फार्माविज़न प्रोग्राम के आयाम को आकार देने में काफी अहम भूमिका अदा कर चुके हैं.

जबकि हिमालय सिंह सुरेन्द्र सिंह झाला को गुजरात का नव निर्वाचित प्रदेश मंत्री बनाया गया है. वह मूल रुप से राजकोट के रहने वाले हैं. वह फिलहाल बी ए की पढ़ाई कर रहे हैं वह 2014 से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े हैं. वह इससे पहले राजकोट महानगर कार्यालय मंत्री, महानगर सहमंत्री, महानगर मंत्री, राजकोट जिला संयोजक जैसे विभिन्न जिम्मेदारियों को संभाल चुके हैं. वह फिलहाल वडोदरा जिला और एम एस विश्वविद्यालय में संगठन मंत्री की जिम्मेदारी निभा रहे हैं. 2016 में पूर्वोत्तर जाने वाले अध्ययन दल के सदस्य भी रह चुके हैं. उन्होंने कई शैक्षणिक आंदोलनों को सफल नेतृत्व किया है.