Gujarat Exclusive > देश-विदेश > अडानी ग्रुप के हाथों में होगा मुंबई एयरपोर्ट का संचालन, 74% हिस्सेदारी खरीदने पर सहमति

अडानी ग्रुप के हाथों में होगा मुंबई एयरपोर्ट का संचालन, 74% हिस्सेदारी खरीदने पर सहमति

0
321
  • अडानी ग्रुप करेगा मुंबई एयरपोर्ट का परिचालन
  • GVK ग्रुप के साथ हुआ फाइनल करार
  • 74% हिस्सेदारी खरीदने पर सहमति

देश में जारी निजिकरण के दौर में अब मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट की कमान गौतम अडानी (Gautam Adani) ग्रुप के हाथों में आ जाएगी. अडानी ग्रुप (Adani Group) मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट में 74 फीसदी हिस्सेदारी खरीदेगा. इस करार को लेकर GVK ग्रुप और अडानी ग्रुप के बीच समझौता हो गया है.

मालूम हो कि मुंबई एयरपोर्ट देश का दूसरा सबसे बड़ा और व्यस्त एयरपोर्ट है.

इस संदर्भ में अडानी एंटरप्राइज ने शेयर बाजारों को भेजी सूचा में कहा कि, ‘अडानी एयरपोर्ट होल्डिंग्स ने जीवीके एयरपोर्ट डेवलपर्स के ऋण के अधिग्रहण के लिए करार किया है.’ ऋण को इक्विटी में बदला जाएगा. हालांकि दोनों ही कंपनियों ने इस सौदे के वित्तीय पक्ष का खुलासा नहीं किया है.

यह भी पढ़ें: स्वास्थ्य मंत्री का दावा, दिवाली तक काबू में आ जाएगा कोरोना वायरस

इस करार के मुताहिक अडानी ग्रुप (Adani Group)  GVK ग्रुप का 50.5 फीसदी हिस्सा खरीदेगा. इसके अलावा एयरपोर्ट कंपनी ऑफ साउथ अफ्रीका (ACSA) और Bidvest जैसे माइनॉरिटी शेयरहोल्डर्स की 23.5 फीसदी हिस्सेदारी को भी अडानी ग्रुप (Adani Group)  खरीदेगा.

देश का दूसरा सबसे बड़ा एयरपोर्ट ऑपरेटर

MIAL में ACSA की 10 परसेंट और Bidvest की 13.5 फीसदी हिस्सेदारी है. इस करार के साथ ही अडानी ग्रुप (Adani Group)  देश की दूसरी सबसे बड़ी प्राइवेट एयरपोर्ट ऑपरेटर बन गई है.
अडानी ग्रुप (Adani Group) के पास पहले से ही 6 एयरपोर्ट चलाने का ठेका हैं. मौजूदा समय में दिल्ली और हैदराबाद एयरपोर्ट का संचालन करने वाला GMR ग्रुप देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट ऑपरेटर है.

GVK ग्रुप और अडानी ग्रुप के बीच हुए करार के मुताबिक मुंबई एयरपोर्ट को ऑपरेट करने वाले GVK का पूरा कर्ज अडानी ग्रुप (Adani Group)  चुकाएगा.
हालांकि, यह पूरा कर्ज इक्विटी में बदल जाएगा. इस डील की कुल वैल्यू कितनी है, इसकी जानकारी अभी नहीं दी गई है.
AAHL ने कहा कि वह MIAL में पूंजी की जरूरतों को पूरा करेगा. इसके अलावा नवी मुंबई एयरपोर्ट के वित्तीय क्लोजर के लिए भी फंड उपलब्ध कराया जाएगा.

इस करार के खिलाफ GVK ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, उसका कहना था कि ‘right to first refusal’ उसका है, लेकिन वो फंड्स का इंतजाम नहीं कर सका.
दूसरी ओर विदेशी निवेशकों के एक समूह ने भी इसे कानूनी रूप से चुनौती दे दी है.

मिला है 6 एयरपोर्ट के परिचालन का ठेका

बंदरगाह क्षेत्र में मजबूत पकड़ बनाने के बाद अडानी ग्रुप (Adani Group)  एयरपोर्ट संचालन की दुनिया में मजबूत पकड़ बनाना रहा है.
ग्रुप को हाल ही में 6 एयरपोर्ट के परिचालन का ठेका मिला है. इसमें लखनऊ, जयपुर, गुवाहाटी, अहमदाबाद, तिरुवनंतपुरम और मैंगलोर शामिल हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें