Gujarat Exclusive > गुजरात > मुंबई के बाद अहमदाबाद बना कोरोना का हॉटस्पॉट, कुछ ही दिनों में चार गुना बढ़ी मरीजों की संख्या

मुंबई के बाद अहमदाबाद बना कोरोना का हॉटस्पॉट, कुछ ही दिनों में चार गुना बढ़ी मरीजों की संख्या

0
4779

अहमदाबाद: देश में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है. ​देश की राजधानी दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 293 नए केस सामने आए, जिसके बाद यहां पर कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 2918 हो गई है. इन सबके बीच अहमदाबाद से एक चिंतित करने वाली तस्वीर सामने आने लगी है. महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई के बाद अब गुजरात में अहमदाबाद दूसरा सबसे बड़ा कोरोना हॉटस्पॉट बनने के कगार पर है. पिछले 24 घंटे में अहमदाबाद में 19 लोगों की कोरोना की वजह से मौत हो गई, जबकि 174 नए केस सामने आए.

अहमदाबाद में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. अहमदाबाद में अब तक 105 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि मुंबई में 204 लोगों ने अब तक कोरोना संक्रमण की वजह से अपनी जान गंवाई है. अहमदाबाद इसलिए अब और भी खतरनाक स्थिति में पहुंचता दिखाई दे रहा है, क्योंकि पिछले एक सप्ताह में यहां पर कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत का आंकड़ा 60 प्रतिशत तक बढ़ गया है. बता दें कि 20 अप्रैल के बाद से अब तक इस शहर में 67 लोगों की मौत हो चुकी है, जो कि मुंबई से काफी अधिक है.

अकेले अहमदाबाद में अब तक 2181 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. महाराष्ट्र को छोड़कर यह आंकड़ा सभी राज्यों से अधिक है. राजस्थान और मध्य प्रदेश में भी अहमदाबाद के आसपास ही कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या है, लेकिन यहां पर मौत का आंकड़ा अहमदाबाद से काफी कम है. बता दें कि राजस्थान में अब तक 41 लोगों की मौत हुई है, जबकि मध्य प्रदेश में 103 लोगों की जान गई है.

12 दिन के अंदर चार गुना बढ़ गए मरीज

बता दें कि गुजरात में पिछले 12 दिनों में 3300 से अधिक कोरोना संक्रमित केस सामने आए हैं. इन 12 दिनों में अहमदाबाद में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में चार गुने की वृद्धि देखी गई है. यह इस बात का संकेत है कि राज्य सरकार और स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुजरात में जितना कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा सोचा था यहां पर स्थिति उससे कहीं ज्यादा खराब हो चुकी है. यही नहीं गुजरात में कोरोना मरीजों की जांच का आंकड़ा भी अभी बहुत कम है. गुजरात ने अब तक 51,091 नमूनों का परीक्षण किया है, जो महाराष्ट्र में आधे से भी कम है. महाराष्ट्र में अब तक 1.16 लाख से अधिक लोगों की जांच की जा चुकी है.यहां तक कि तमिलनाडु, जिसमें गुजरात की तुलना में काफी कम पॉजिटिव केस हैं वहां भी 87,000 से अधिक लोगों की जांच की जा चुकी है.

कोरोना से जारी महामारी के बीच अजीब दावा, गुजरात की हालत इटली-फ्रांस से बेहतर: स्वास्थ्य विभाग