Gujarat Exclusive > गुजरात > सूरत में एक बार फिर इकठ्ठा हुए परप्रांतिय मजदूर, घर वापसी की कर रहे हैं मांग

सूरत में एक बार फिर इकठ्ठा हुए परप्रांतिय मजदूर, घर वापसी की कर रहे हैं मांग

0
5999

सूरत: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाये जाने के ऐलान के बाद मुंबई के बांद्रा स्टेशन पर हज़ारों की संख्या में मजदूर इकट्ठे होने के बाद अब गुजरात के डायमंड सिटी सूरत में एक बार फिर से बड़ी संख्या में परप्रांतिय लोग इकठ्ठा हो गए. ये लोग अपने घर जाने की मांग को लेकर सूरत के वारछा इलाके में जमा हुए हैं. मामले की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस लोगों को समझाने का काम कर रही है.

बताया जा रहा है कि परप्रांतिय लोग अपने घर जाने देने की मांग कर रहे हैं. देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा के बीच इतनी बड़ी संख्या में प्ररप्रांतियों का जुटना बेहद गंभीर बात है क्योंकि सूरत में लगातार कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है.

गौरतलब हो कि इससे पहले डायमंड शहर यानी सूरत में लॉकडाउन के कारण करघे और कढ़ाई वाले कारखाने बंद हैं. इस वजह से हजारों कारीगर यहां बेरोजगार हो गए हैं. शुक्रवार देर शाम घर लौटने की मांग को लेकर ये मजदूर सड़क पर उतर आए. इन्होंने सड़क पर लॉरी और टायर भी जलाए हैं. ये सभी कारीगर मूल रूप से ओडिशा के हैं, और वे अपने गृहनगर लौटने की मांग कर रहे हैं. उथल-पुथल के कारण, पुलिस अच्छी तरह से संगठित है, और कारीगरों को राजी किया जा रहा है.

आदित्य ठाकरे का तंज, प्रवासी मजदूरों का विश्वास जीतने में नाकाम रही केंद्र