Gujarat Exclusive > देश-विदेश > पंजाब विधानसभा में पास हुआ कृषि कानून के खिलाफ प्रस्ताव, बना पहला राज्य

पंजाब विधानसभा में पास हुआ कृषि कानून के खिलाफ प्रस्ताव, बना पहला राज्य

0
508
  • नए अध्यादेश में MSP शामिल करने की मांग
  • पंजाब विधानसभा में पास हुआ कृषि कानून के खिलाफ प्रस्ताव
  • प्रस्ताव पेश कर पंजाब सीएन ने कृषि कानून का किया विरोध
  • कानून के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव पेश करने वाला पंजाब बना पहला राज्य

केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ बुलाए गए पंजाब विधानसभा के विशेष सत्र के पहले दिन का कामकाज थोड़ी देर चला उसके बाद सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दी गई थी.

लेकिन आज सुबह कार्रवाई शुरू होने के बाद विधानसबा में इन कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पेश कर दिया गया.

कृषि कानून के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव पेश करने वाला पंजाब पहला राज्य बन गया है.

विधानसभा में प्रस्ताव पेश करने वाला पंजाब बना पहला राज्य

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ देश के अलग-अलग हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हो रहा है. लेकिन विरोध का सबसे ज्यादा असर पंजाब में दिखाई दे रहा है.

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने विधानसभा में प्रस्ताव पेश किया. प्रस्ताव में केंद्र सरकार के कृषि कानूनों का जमकर विरोध किया गया.

सदन में कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पेश करते हुए उन्होंने कहा कि इस कानून से सिर्फ पंजाब हरियाणा नहीं बल्कि राज्य के अन्य किसानों पर भी असर पड़ेगा.

नए अध्यादेश में MSP शामिल करने की मांग

इस मौके पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने रेलवे ट्रेक पर बैठकर इस कानून का विरोध करने वाले किसानों से अपील किया कि वह धरना खत्म कर दें.

हम इस कानून के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ेंगे. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि विपक्ष को एकजुट होकर इस कानून के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए.

इस प्रस्ताव में केंद्र से अपील की गई है कि अध्यादेश में MSP को शामिल किया जाए.

पंजाब में किसानों ने शुरू किया था रेल रोको आंदोलन

कृषि बिल का सबसे पहले और सबसे ज्यादा विरोध पंजाब में हुआ था. लेकिन अब पंजाब किसान संगठन से जुड़े लोगों ने राज्य में रेल रोको आंदोलन शुरू किया है. यह आंदोलन 24 तारीख से लेकर 26 तारीख तक चलाया जाएगा.

लेकिन आज भी कुछ किसान संगठन के लोग रेलवे ट्रेक पर बैठकर अपना विरोध व्यक्त कर रहे हैं. वहीं रेलवे विभाग ने आंदोलन को लेकर कई जगहों पर ट्रेन को रद्द करने का फैसला किया है.

मिल रही जानकारी के अनुसार किसान फिरोजपुर, अमृतसर, जालंधर, पठानकोट रेलवे स्टेशनों पर ट्रेन रोकने की कोशिश करेंगे.

राज्य सरकार ने विरोध करने वाले किसानों पर नरव रवैया अख्तियार करने का निर्देश दिया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

‘आइटम’ वाले बयान पर कमलनाथ की बढ़ीं मुश्किलें, महिला आयोग ने चुनाव आयुक्त से की शिकायत