Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > कृषि बिल पर पंजाब में जारी हंगामा, किसान ने जहर खाकर की आत्महत्या की कोशिश

कृषि बिल पर पंजाब में जारी हंगामा, किसान ने जहर खाकर की आत्महत्या की कोशिश

0
484
  • मोदी सरकार के कृषि बिल के खिलाफ किसानों का गुस्सा
  • हरियाणा- पंजाब में सड़कों पर उतरे किसान
  • कृषि बिल को वापस लेने की मांग
  • पंजाब में विरोध कर रहे किसान ने खाया जहर

कृषि संबंधित बिल लाने के मोदी सरकार विवादों में घिर गई है. जहां एक तरफ केंद्रीय मंत्री और शिरोमणि अकाली दल की सांसद हरसिमरत कौर बादल ने मोदी कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है.

वहीं आज पंजाब में कृषि बिल का विरोध कर रहे किसान ने आत्महत्या करने की कोशिश की उसकी हालत नाजुक बताई जा रही है.

किसान ने जहर खाकर की आत्महत्या की कोशिश

मिल रही जानकारी के अनुसार शुक्रवार को पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के गांव में उनके घर के ठीक सामने धरने पर बैठे एक किसान ने जहर खा लिया.

जहर खाने वाले किसान की पहचान प्रीतम सिंह के रूप में हुई है. उसकी हालत नाजुक बताई जा रही है.

कृषि बिल के विरोध में पंजाब के अलग-अलग हिस्सों में किसान धरने पर बैठे हैं और इस बिल का विरोध कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: हरसिमरत कौर ने मोदी कैबिनेट से दिया इस्तीफा, कृषि संबंधी बिल बना कारण

क्यों हो रहा है बिल का विरोध

बिल पेश किया गया तो शिरोमणि अकाली दल के सांसद सुखबीर सिंह बादल ने विरोध किया.

गौरतलब है कि मॉनसून सत्र के पहले दिन सोमवार को सरकार की ओर से कृषि में सुधार के कार्यक्रमों को लागू करने और किसानों की आय बढ़ाने के मकसद से लाए गए 3 विधेयक लोकसभा में पेश किए गए.

ये तीनों विधेयक कोरोना काल में 5 जून, 2020 को अधिसूचित 3 अध्यादेशों का स्थान लेंगे.

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का दावा विधेयक से किसानों को मिलेगी आजादी

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसान उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सुविधा) विधेयक, 2020 और किसानों (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) का मूल्य आश्वासन अनुबंध एवं कृषि सेवाएं विधेयक.

2020 लोकसभा में पेश किया जबकि आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक, 2020 उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण राज्यमंत्री राव साहेब पाटिल दानवे ने पेश किया था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

बीते 24 घंटों में 1 लाख के करीब दर्ज हुए कोरोना के नए मामले, संक्रमितों की संख्या 52 लाख के पार