Gujarat Exclusive > गुजरात > अहमदाबाद: उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने 108 कर्मचारियों को लगाई फटकार

अहमदाबाद: उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने 108 कर्मचारियों को लगाई फटकार

0
384

गांधीनगर: गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल कोरोना के बढ़ते मामलों पर काबू पाने के लिए एक्शन में आ गए हैं.

आज काठवाड़ा में 108 आपातकालीन नियंत्रण कक्ष का औचक दौरा किया और यहां पर होने वाले कामों की समीक्षा की. इस दौरान उन्होंने 108 कर्मचारियों को आड़े हाथों लेते हुए जमकर फटकार लगाई.

उन्होंने यह भी सवाल उठाया कि प्राइवेट लैब में कोरोना का टेस्ट कराने वाले लोगों को सरकारी अस्पतालों में भर्ती क्यों नहीं कराया जा रहा है.

108 आपातकालीन नियंत्रण कक्ष का औचक दौराAhmedabad 108 employees

नितिन पटेल ने गुरुवार को काठवाड़ा स्थित आपातकालीन कार्यालय का निरीक्षण किया. इस मौके पर उन्होंने कोरोना रोगियों की ओर से आने फोन कॉल की समीक्षा की.

इस दौरान उन्होंने अधिकारियों से 108 सेवा के बारे में जानकारी भी मांगी. पटेल ने 108 कर्मचारियों को फटकार लगाते हुए कहा कि निजी लैब में कोरोना का टेस्ट कराने वाले लोगों को सरकारी अस्पतालों में भर्ती क्यों नहीं किया जाता है?Ahmedabad 108 employees

यह भी पढ़ें: गुजरात में कोरोना वैक्सीन को 4 चरणों में किया जाएगा वितरण: CM रूपाणी

कर्मचारियों को फटकार लगाते हुए दिया निर्देश

इस सिलसिले में जानकारी देते हुए नितिन पटेल ने कहा कि मरीजों को 108 की सेवा मिल रही है. किस तरीके से काम किया जा रहा है इसका निरीक्षण करने के लिए नियंत्रण कक्ष का दौरा किया.

यहां एक नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है ताकि मरीजों को फौरन अस्पताल पहुंचाया जा सके. 24 घंटे इसकी निगरानी की जा रही है.

कोरोना की चपेट में आने के बाद मरीजों को किस अस्पताल में भेजा जाए इसको लेकर भ्रम की स्थिति पैदा हो गई थी.Ahmedabad 108 employees

जिन मरीजों को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत नहीं ऐसे लोगों को कौन सी दवा दी जानी चाहिए इसकी भी जानकारी यहां से दी जाती है.

पटेल ने आगे कहा कि यहां पर की गई व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए उप नगर आयुक्त राणा को जिम्मेदारी दी गई है.Ahmedabad 108 employees

इस मौके पर उन्होंने कहा कि कोई भी मरीज अगर निजी लैब में रिपोर्ट करता है उसे भी इलाज के लिए सरकारी अस्पतालों में भेजा जाए.

यदि किसी मरीज को निजी अस्पताल में भर्ती कराया जाता है और बिल अधिक आता है, तो सरकारी अस्पताल में भर्ती होने के लिए क्या करना है, इसका निर्णय मुख्यमंत्री से परामर्श करने के बाद लिया जाएगा.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अहमदाबाद कोरोना की चपेट में आया दुल्हा, बीच में लटकी शादी