Gujarat Exclusive > गुजरात > आपराधिक इतिहास वाले AIMIM के उम्मीदवार, क्या गुजरात के मुस्लिमों का बनेंगे मसीहा?

आपराधिक इतिहास वाले AIMIM के उम्मीदवार, क्या गुजरात के मुस्लिमों का बनेंगे मसीहा?

0
1271

शाहबाज़ शेख, अहमदाबाद: गुजरात में ओवैसी के प्रवेश के बाद राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई है. हालांकि AIMIM ने अहमदाबाद शहर में केवल 6 वार्डों में उम्मीदवार खड़े किए हैं.

AIMIM के इन उम्मीदवारों में से अधिकांश का आपराधिक इतिहास है. कांग्रेस, भाजपा और आम आदमी पार्टी के बाद इस नई पार्टी का राजनीति प्रवेश विवादास्पद बन गया है.

क्योंकि यह पार्टी अक्सर मुस्लिमों को सियासी विकल्प देने का दावा करती है. Ahmedabad AIMIM Candidate criminal history

अधिकांश उम्मीदवार का आपराधिक इतिहास Ahmedabad AIMIM Candidate criminal history

गुजरात स्थानीय निकाय चुनाव दिन प्रतिदिन दिलचस्प बनता जा रहा है. गुजरात में AIMIM की शानदार एंट्री के बाद राज्य की मुख्य सियासी दल कांग्रेस और भाजपा में खलबली मच गई है.

बीते दिनों अहमदाबाद के रिवरफ्रंट में एक सार्वजनिक सभा में ओवैसी ने भाजपा और कांग्रेस दोनों पर जमकर हमला बोला था. Ahmedabad AIMIM Candidate criminal history

इतना ही नहीं अहमदाबाद के मुस्लिम बहुल्य इलाकों में एआईएमआईएम को लेकर अलग माहौल दिखाई दे रहा है. अहमदाबाद के मुस्लिम पार्टी के तरफ झुकाव रख रहे हैं.

लेकिन पार्टी ने जिन उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है उसमें अधिकांश का आपराधिक इतिहास है.

विश्वसनीय सूत्रों का कहना है कि इस पार्टी के पीछे गुजरात पुलिस की विशेष भूमिका है.

AIMIM के कई उम्मीदवार पुलिस के मुखबिर Ahmedabad AIMIM Candidate criminal history

AIMIM ने अहमदाबाद के पूर्वी हिस्सा यानी दरियापुर, गोमतीपुर, शाहपुर, दानिलिमडा और मकतमपुरा सहित बेहरामपुरा से अपने उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारे हैं.

बीते दिनों कांग्रेस के पारंपरिक वोटर भी कांग्रेसी उम्मीदवारों का विरोध करते हुए नजर आ रहे थे. Ahmedabad AIMIM Candidate criminal history

अहमदाबाद के कई मोहल्लों में कांग्रेसी कार्यकर्ता और नेताओं की नो एंट्री को लेकर बड़े-बड़े बैनर भी लगाए गए हैं.

इस बीच जानकारी सामने आ रही है कि मुस्लिमों का महीसा बनने का दावा करने वाले कई एआईएमआईएम के उम्मीदवार पुलिस के मुखबिर हैं.

विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार, एआईएमआईएम उम्मीदवार समीर शेख जिनको शहर के दरियापुर वार्ड चुनावी मैदान में उतारा गया है. वह गैंगस्टर वहाब खान पठान के रिश्तेदारों में से एक है.

ऐसे में सवाल यह उठता है कि AIMIM, जो गुजरात के मुसलमानों को राजनीतिक विकल्प देने का दावा करती है.

वह एक बार फिर से लतीफ और वहाब के दौर को पुनर्जीवत करने की कोशिश कर रही है. Ahmedabad AIMIM Candidate criminal history

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

मौलवियों के सहारे AIMIM लेकिन क्या उलेमाओं को मुस्लिमों की परवाह है?