Gujarat Exclusive > गुजरात > अहमदाबाद में कोरोना का आतंक, 5 दिनों में पुलिसकर्मी के माता-पिता और भाई की मौत

अहमदाबाद में कोरोना का आतंक, 5 दिनों में पुलिसकर्मी के माता-पिता और भाई की मौत

0
529

दीपक मस्ला, अहमदाबाद: दिवाली के बाद के शुरू होने वाले कोरोना का दूसरा राउंड कितना घातक है इसका अनुभव कोरोना योद्धा के रूप में काम करने वाले पुलिसकर्मी और उनके परिवार ने भयावहता का अनुभव किया है. Ahmedabad corona Death 

पुलिस कॉन्स्टेबल की मां, भाई और पिता की मौत दीवाली के पांच दिनों के भीतर हो गई. कोरोना की चपेट में आने के बाद इन लोगों को ठक्करनगर के आदित्य अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

लेकिन उसके कुछ दिन बाद उनके पिता, माता को सिविल अस्पताल जबकि भाई को ग्लोबल अस्पताल में भर्ती कराया गया.

इस दौरान पुलिसकर्मी को अस्पतालों में इलाज के नाम पर 18 लाख रुपये का बिल भी अदा किया. लेकिन कोरोना की चपेट में आने वाले परिवार के तीनों सदस्यों को नहीं बचाया जा सका.

5 दिनों में पुलिसकर्मी के तीन सदस्यों की मौत  Ahmedabad corona Death 

पुलिस कांस्टेबल धवल अनिलभाई रावल जो कि चंदखेड़ा के वृंदावन डुप्लेक्स में रहते हैं और ट्रैफिक बी डिवीजन में ड्यूटी पर तैनात हैं.

पुलिस कांस्टेबल धवल अनिल रावल की माता नयना रावल, पिता अनिल कुमार पोपटलाल रावल और भाई चिराग रावल कोरोना संक्रमित हो गए थे. जिसके बाद तीनों को इलाज के लिए ठक्करनगर के आदित्य अस्पताल में भर्ती कराया गया.

इलाज के दौरान डॉक्टरों ने नयनाबेन को वेंटिलेटर न होने की वजह से सिविल कोविड अस्पताल ले जाने की बात कही. इसके बाद भाई चिराग रावल की हालत खराब होने की वजह से उनको ग्लोबल अस्पताल में भर्ती कराया गया. Ahmedabad corona Death 

कुछ दिनों के बाद पिता अनिलभाई को भी सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया. पुलिसकर्मी को आदित्य अस्पताल ने तीनों के इलाज के लिए 12.50 लाख रुपया बिल के नाम पर अदा करना पड़ा.

यह भी पढ़ें: गुजरात में कर्फ्यू बढ़ाने को लेकर उपमुख्यमंत्री ने किया बड़ा ऐलान

18 लाख रुपये का बिल भी किया अदा

उपचार के दौरान सिविल अस्पताल में नयनाबेन का 17 तारीख को निधन हो गया. मां की मौत के दुख से परिवर उबर पाता उससे पहले दूसरे दिन ग्लोबल अस्पताल में इलाज करा रहे भाई चिराग रावल की मौत हो गई है. Ahmedabad corona Death 

ग्लोबल हॉस्पिटल में धवल से चिरागभाई के इलाज के लिए 5.64 लाख रुपये लिए थे.

कोरोना संकटकाल में अपने माता-पिता को खोने वाले एक पुलिसकर्मी धवलभाई को इस बात का अंदाजा नहीं था कि परिवार एक और दुखद समय से गुजरना पड़ेगा.

रविवार को सिविल अस्पताल में इलाज के दौरान पिता अनिलभाई की भी मौत हो गई. इस प्रकार पांच दिनों में कोरोना में एक ही परिवार के तीन सदस्यों की मृत्यु हो गई. Ahmedabad corona Death

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

सूरत के इस इलाके में आज से चाय और पान की दुकानों को किया गया बंद