Gujarat Exclusive > गुजरात > कोरोना का नया हॉटस्पॉट बना ग्रामीण अहमदाबाद का ढोणका और साणंद

कोरोना का नया हॉटस्पॉट बना ग्रामीण अहमदाबाद का ढोणका और साणंद

0
982
  • औद्योगिक इकाई बन रहे हैं नए कोरोना हॉटस्पॉट
  • श्रमिकों की वापसी के कारण कोरोना के नए मामलों में वृद्धि
  • गुजरात में जारी है कोरोना का कहर

अहमदाबाद: गुजरात में कोरोना का कहर दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है. अहमदाबाद शहर के साथ ही साथ अहमदाबाद ग्रामीण इलाके में मौजूद ढोणका और साणंद भी कोरोना हॉटस्पॉट बन गए हैं.

यह इलाके इसलिए हॉटस्पॉट बन रहे क्योंकि इन इलाकों में बड़ी संख्या में औद्योगिक इकाई मौजूद हैं. ग्रामीण अहमदाबाद में अब तक कोरोना के कुल 1,800 मामले सामने आए हैं.

इनमें से 28 फीसदी मामले शहर के बिल्कुल पास मौजूद ग्रामीण इलाकों से सामने आए हैं.

ढोणका में अब तक 424 मामले सामने आए हैं इनमें से 137 मामले औद्योगिक इकाई में काम करने वाले श्रमिक हैं. जबकि साणंद में कुल 417 मामले सामने आए हैं. जिनमें से 132 मामले वहां के औद्योगिक श्रमिकों के हैं.

औद्योगिक इकाई बन रहे हैं कोरोना का नया हॉटस्पॉट

अभी पिछले हफ्ते ग्रामीण अहमदाबाद से 20 नए मामले सामने आए हैं. जिनमें से पांच मामले साणंद और ढोणका में मौजूद औद्योगिक इकाई से जुड़े हैं.

इन क्षेत्रों में कोरोना मामलों में वृद्धि का कारण तालाबंदी के पूरा होने के बाद लौटने वाले श्रमिक हैं. इनमें से साणंद में कार्यरत चीनी बहुराष्ट्रीय कंपनी के तीन श्रमिकों का कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आया था.

इसके अलावा चिरिपाल समूह की कंपनी के दो कर्मचारियों भी कोरोना की चपेट में आ गए थे. इसके साथ अहमदाबाद जिला के औद्योगिक इकाईयों में काम करने वाले 514 श्रमिक भी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं.

इससे भी ज्यादा हालात हो सकते हैं खराब

साणंद इंडस्ट्रियल एसोसिएशन ने इस सिलसिले में जानकारी देते हुए कहा कि बिहार और मध्य प्रदेश से लगभग 12 हजार से ज्यादा श्रमिक वापस आए हैं.

एसोसिएशन के अध्यक्ष अजित शाह के अनुसार वापस आने वाले तमाम श्रमिकों का कोरोना टेस्ट नहीं हुआ था.

अभी इससे भी ज्यादा स्थिति नाजुक बन सकती है. साणंद में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम इकाइयों में 20,000 श्रमिक काम करते हैं.

यह भी पढ़ें: सूरत में बढ़ा कोरोना कहर, रेलवे स्टेशन-बस डिपो और हवाई अड्डे से मिले 195 संक्रमित

सरकारी अधिकारी ने कहा कि ग्रामीण अहमदाबाद में कुल 1,808 मामलों में से 985 मामले नगरपालिकाओं के थे और 823 मामले ग्रामीण क्षेत्रों के थे. धोलेरा से सबसे कम कोरोना मामले सामने आए हैं.

सबसे ज्यादा मामले मांडल से 29 मामले सामने आए हैं यहां मारुति सुजुकी का संयंत्र स्थित है.

राज्य के अन्य GIDC में श्रमिकों की वापसी से निकट भविष्य में इन क्षेत्रों में कोरोना के नए मामलों में भारी उछाल की संभावना है.

सरकार की ओर से जारी कोरोना दिशा-निर्देशों का कई औद्योगिक इकाईयां पालन नहीं कर रही है.

इसीलिए लगातार कोरोना के नए मामलों में वृद्धि दर्ज की जा रही है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अहमदाबाद: पूर्व सांसद के बेटे के बंगले से 30.70 लाख की चोरी, पुलिस ने दर्ज किया मामला