Gujarat Exclusive > गुजरात > अहमदाबाद: 13 दिन बाद डॉक्टरों ने खत्म किया हड़ताल, स्वास्थ्य विभाग ने चर्चा करने का वादा किया

अहमदाबाद: 13 दिन बाद डॉक्टरों ने खत्म किया हड़ताल, स्वास्थ्य विभाग ने चर्चा करने का वादा किया

0
133

अहमदाबाद के असारवा सिविल अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टरों ने अपनी मांगों को हड़ताल पर उतर गए थे. लेकिन अब जानकारी सामने आ रही है कि गुजरात स्वास्थ्य विभाग ने आश्वासन दिया है कि वह उचित चर्चा के लिए तैयार है जिसके बाद डॉक्टरों ने 13 दिन बाद हड़ताल को समाप्त कर दिया है.

सिविल अस्पताल के निदेशक और डीन ने कल स्वास्थ्य मंत्री ऋषिकेश पटेल और स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारियों से गांधीनगर में मुलाकात की थी और हड़ताल पर उतरे डॉक्टरों की मांग को सामने रखा था. बैठक के बाद रेजिडेंट डॉक्टरों ने फिर से ड्यूटी शुरू कर दी है. मुलाकात के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि स्वास्थ्य मंत्री ऋषिकेश पटेल सही फैसला लेंगे.

जानिए क्या था पूरा मामला:
सिविल अस्पताल में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल 13 दिनों तक चली, स्वास्थ्य विभाग धरना का समाधान नहीं कर सका, जिससे गरीब-सामान्य वर्ग के मरीजों को परेशानी हो रही थी. रेजिडेंट डॉक्टरों की मांग है कि तीन साल के रेजीडेंसी के 36 महीनों में से 17 महीना कोविड महामारी में काम करने के लिए 1 साल के बॉन्ड को सीनियर रेजिडेंसी के तौर पर गिना जाए. जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष राहुल गामेती ने बताया कि साल 2019 में एमडी/एमएस रेजीडेंसी में दाखिले के बाद मार्च 2020 से कोविड के मामले आने शुरू हो गए थे. मेडिकल कॉलेज और सिविल अस्पताल में पोस्ट ग्रेजुएट डॉक्टर के 3 बैच हैं यानी R1, R2, R3 के बजाय केवल दो बैच कार्यरत हैं. अगर कोरोना के दौरान को कार्यकाल को अनुभव के रूप में मान लेती है तो इससे सरकार को और अधिक अनुभवी डॉक्टर मिल सकेंगे. पिछले साल हमें आश्वासन दिया गया था कि 2019 और 2020 बैच के लिए एक कमेटी बनाई जाएगी. लेकिन यह अभी तक नहीं हुआ है.

भारत में बीते 24 घंटों में 11 हजार से ज्यादा कोरोना के नए केस दर्ज, 27 संक्रमितों की मौत