Gujarat Exclusive > गुजरात > अहमदाबाद- मुंबई यात्रियों के लिए खुशखबरी, यात्रा के समय में होगी 45 मिनट की कमी

अहमदाबाद- मुंबई यात्रियों के लिए खुशखबरी, यात्रा के समय में होगी 45 मिनट की कमी

0
8591

Ahmedabad good news

  • मुंबई से अहमदाबाद के बीच यात्रा करने वालों के लिए अच्छी खबर
  • 110 किमी प्रति घंटे की जगह पर अब 130 किमी घंटे दौड़ेंगी ट्रेनें
  • अहमदाबाद और वडोदरा के बीच सेमी-हाई-स्पीड कॉरिडोर को मंजूरी
  • जल्द होगी कॉरिडोर का निर्माण काम पूरा

अहमदाबाद: मुंबई से अहमदाबाद की रेलवे यात्रा में लगने वाले समय में जल्द ही 45 मिनट कम हो जाएगा.

यात्रा के समय में कमी का कारण पश्चिम रेलवे द्वारा ट्रेन की अधिकतम गति 110 किमी प्रति घंटे से बढ़ाकर 130 किमी प्रति घंटे करना है.

अहमदाबाद- वडोदरा के बीच सेमी-हाई-स्पीड कॉरिडोर को मिली मंजूरी Ahmedabad good news

गति बढ़ाने के इस फैसले से शताब्दी एक्सप्रेस के समय में 45 मिनट की कमी दर्ज की जाएगी. मंडल रेल प्रबंधक दीपक कुमार झा ने इस सिलसिले में जानकारी देते हुए कहा कि अहमदाबाद और वडोदरा के बीच सेमी-हाई-स्पीड कॉरिडोर को मंजूरी दे दी गई है.

यह ट्रैक मुंबई और दिल्ली के बीच सेमी-हाई-स्पीड कॉरिडोर का हिस्सा है. अहमदाबाद और वडोदरा के बीच के ट्रैक अभी भी अपग्रेड होगा जिसकी वजह से यात्रा के समय में और कमी दर्ज की जाएगी.

यह भी पढ़ें: बहू को लगता है जिस्म पर रेंग रहे हैं कीड़े, कपड़ों पर तांत्रिक विधि का आरोप

दीपक कुमार झा ने बताया कि अहमदाबाद और वटवा के बीच तीसरा ट्रैक बिछाने का काम लगभग पूरा हो गया है. लेकिन बीच में एक मजार आता है जिसका मामला उच्च न्यायालय में लंबित है. कोर्ट के फैसले के बाद की काम पूरा होगा. उन्होंने कहा कि डिवीजन अब तीसरी लाइन को मौजूदा ट्रैक से जोड़ने के लिए अन्य संभावनाएं तलाश रहा है ताकि इसका इस्तेमाल किया जा सके.

सेमी-हाई-स्पीड कॉरिडोर से मणिनगर में गाड़ियां रोकने में मिलेगी मदद Ahmedabad good news

मंडल रेल प्रबंधक दीपक कुमार झा ने कहा कि तीसरे ट्रैक की वजह से मणिनगर स्टेशन पर गाड़ियां रोकने में मदद मिलेगी.

यह पर्यटकों की लंबे समय से इसकी मांग की जा रही थी. इसकी वजह से स्टेशनों पर ट्रेनों की भीड़ को कम करने में भी मदद मिलेगा. जिसमें ट्रेनों को यार्ड से प्लेटफॉर्म पर आने के लिए इंतजार करना पड़ता है.

तीसरे ट्रैक की वजह से ट्रेनों को आसानी से किसी भी प्लेटफॉर्म पर स्टॉप के लिए भेजा जा सकेगा.

इससे कालूपुर स्टेशन पर पड़ने वाला बोझ भी कम हो जाएगा. मणिनगर में सुविधा मिलने की वजह से लोगों को कालूपुर तक आना नहीं पड़ेगा. इसके साथ ही अधिक से अधिक ट्रेनें मणिनगर स्टेशन पर रुक सकेंगी.

इस फैसले के बाद चर्चा तेज हो गई है कि अहमदाबाद और मुंबई के बीच सेमी-हाई-स्पीड कॉरिडोर की आवश्यकता क्यों पड़ गई जब जल्द ही सरकार बुलेट ट्रेन चलाने का दावा कर रही है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अहमदाबाद में सामने आया कोरोना का चौंकाने वाला मामला, विशेषज्ञों की चिंता बढ़ी