Gujarat Exclusive > गुजरात > अहमदाबाद: मेयर पद के लिए चेतन परमार और हिमांशु वाणा के नाम की चर्चा

अहमदाबाद: मेयर पद के लिए चेतन परमार और हिमांशु वाणा के नाम की चर्चा

0
229

अहमदाबाद: अहमदाबाद नगर निगम चुनावों में भाजपा अपना भगवा लहराने में एक बार फिर कामयाब हुई है. Ahmedabad Mayor Post Lobbying

जिसके बाद बहस शुरू हो गई है कि अहमदाबाद का महापौर कौन बनेगा. अहमदाबाद नगर निगम पहले ढाई साल के लिए एससी आरक्षित है.

वासणा के नगरसेवक हिमांशु वामा और खोखरा के पार्षद चेतन परमार का नाम अहमदाबाद मेयर के रूप में जारी चर्चा में सबसे ऊपर चल रहे हैं.

इसके अलावा मेयर के रेस में डॉ. चंद्रकांत चौहान और राजेंद्र सोलंकी के नाम भी चर्चा में हैं.

अहमदाबाद मेयर के लिए हिमांशु सबसे मजबूत दावेदार Ahmedabad Mayor Post Lobbying

भारतीय जनता पार्टी ने अहमदाबाद नगर निगम में शानदार जीत दर्ज की है. 192 सीटों में से भाजपा को 159 सीटें मिलीं. हिमांशु वाणा को अहमदाबाद का मेयर बनने का प्रबल दावेदार माना जा रहा है.

मिल रही जानकारी के अनुसार पार्टी उनके नाम पर मुहर लगा सकती है इसलिए उन्होंने बैंक की नौकरी छोड़ दी है. हिमांशु BJYM से जुड़े हैं.

नाम पर होने वाली चर्चा के बीच हिमांशु वाणा ने कहा, “पार्टी मुझे जो जिम्मेदारी देगी उसे पूरा करने के लिए तैयार हूं.” Ahmedabad Mayor Post Lobbying

चेतन परमार के नाम पर भी चर्चा

खोखरा वार्ड से चेतन परमार भी अहमदाबाद के मेयर पद के लिए दौड़ में सबसे आग चल रहे हैं. चेतन परमार मूल कांग्रेसी हैं लेकिन 10 साल पहले कांग्रेस छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए थे.

चेतन परमार का अहमदाबाद शहर के महासचिव कमलेश पटेल के साथ अच्छे संबंध और दोस्ती है. चेतन परमार ने मेयर बनने के लिए लॉबिंग भी शुरू कर दी है.

चेतन परमार ने पहली बार अहमदाबाद नगर निगम चुनाव लड़कर जीत हासिल कर चुके हैं. Ahmedabad Mayor Post Lobbying

गौरतलब है कि गुजरात निकाय चुनाव में भारतीय जनता पार्टी का दबदबा सभी 6 नगर निगमों में देखने को मिला.

अहमदाबाद नगर निगम में भाजपा ने नतीजों को एक तरफा बना दिया और 48 वार्ड की कुल 192 सीटों में से 159 पर जीत दर्ज की. Ahmedabad Mayor Post Lobbying

वहीं पहली बार गुजरात में चुनाव लड़ रही एआईएमआईएम को 7 और कांग्रेस 25 को सीटें मिलीं. जबकी एक निर्दलीय उम्मीदवार को कामयाबी मिली.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

किसान और कृषि क्षेत्र में विकास का दावा करने वाली गुजरात सरकार की खुली पोल