Gujarat Exclusive > गुजरात > अहमदाबाद में बढ़ा कोरोना का कहर, BAPS का फैसला 30 नवंबर तक बंद रहेंगे मंदिर

अहमदाबाद में बढ़ा कोरोना का कहर, BAPS का फैसला 30 नवंबर तक बंद रहेंगे मंदिर

0
430

अहमदाबाद: गुजरात में सर्दी के सीजन का आगमन होते ही कोरोना के नए मामलों में भारी वृद्धि दर्ज की जा रही है. Ahmedabad temple closed

इतना ही नहीं नए मामले बढ़ने के पीछे एक वजह यह भी सामने आ रही है कि बीते दिनों दिवाली से पहले बाजारों में लोगों की भारी भीड़ देखी गई थी.

लोग इस दौराना कोरोना नियमों की धज्जियां भी उड़ा रहे थे. इस बीच अहमदाबाद के शाहीबाग इलाके में मौजूद BAPS मंदिर और शहर के अन्य तमाम संस्कार धामों को 30 नवंबर तक श्रद्धालुओं के लिए बंद रखने का निर्णय लिया गया है.

कोरोना के बढ़ते कहर को लेकर किया फैसला Ahmedabad temple closed

इस प्रकार, शाहीबाग स्थित बीएपीएस मंदिर सहित सभी संस्कारधाम कल से सोमवार तक बंद रहेंगे.

उसके बाद परिस्थितियों को ध्यान में रखकर मंदिर खोला जाए या नहीं इसकी घोषणा की जाएगी.

यह भी पढ़ें: भाजपा के 8 उम्मीदवारों ने विधायक के रूप में ली शपथ, विधानसभा में बढ़ी ताकत

BAPS शाहीबाग मंदिर के कोठारी स्वामी साधु आत्मकीर्तिदास ने सभी हरिभक्तों से कोविड दिशानिर्देश का पालन करने की विशेष अपील की है.

जिसमें मास्क अनिवार्य पहनना, सामाजिक दूरी को बनाए रखना, काम के अलावा बाहर नहीं जाना, मंदिर के महंत ने सभी लोगों से कोरोना को लेकर जारी की गई सरकारी दिशा-निर्देशों को सख्ती से पालन करने की अपील की. Ahmedabad temple closed

गुजरात में कोरोना की स्थिति

गुजरात में कोरोना संक्रमण की रफ्तार कम होते-होते एकबार फिर तेजी से बढ़ने लगी है. लंबे समय बाद एकबार फिर गुजरात में 1300 के करीब नए मामले सामने आए हैं.

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, राज्य में 1,281 नए मामले दर्ज किए गए हैं. इसके साथ ही राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 1,91,642 पर पहुंच गई है.

नए मामलों के साथ राज्य में होने वाली नई मौतों की संख्या में भी बढोतरी देखने को मिल रही है. ताजा आंकड़े के मुताबिक, राज्य में इस बीमारी के कारण आठ और लोगों की मौतें हो गईं.

इसके साथ ही गुजरात में कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़कर 3,823 हो गई है. Ahmedabad temple closed

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में कोरोना वैक्सीन का ट्रायल शुरू