Gujarat Exclusive > देश-विदेश > फिर गैस चेंबर बनने जा रही है दिल्ली! हवा की गुणवत्ता हुई ‘खराब’

फिर गैस चेंबर बनने जा रही है दिल्ली! हवा की गुणवत्ता हुई ‘खराब’

0
315

पिछले कई वर्षों से राजधानी दिल्ली प्रदूषण की चोट से कराहती रही है. साल के इस समय दिल्ली गैस चेंबर में तब्दील हो जाती है. ऐसे में एकबार फिर देश की राजधानी की आवो-हवा (Air Quality) खराब होने जा रही है. ताजा जानकारी के मुताबिक, दिल्ली में वायु गुणवत्ता (Air Quality) बुधवार सुबह थोड़ी देर के लिए ‘खराब’ की श्रेणी में पहुंच गई.

केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर में पीएम10 सुबह 10 बजे 225 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर दर्ज किया गया.

यह भी पढ़ें: बिहार चुनाव: भाजपा को दूसरा झटका, LJP में शामिल हुईं वरिष्ठ नेता उषा विद्यार्थी

मालूम हो कि पीएम 10 माप में 10 माइक्रोमीटर जितना कण होता है, जो सांस लेते समय फेफड़ों में जा सकता है. इन कणों में धूल, पराग और ‘मोल्ड’ बीजाणु शामिल हैं. इससे पहले दिल्ली में सुबह 10 बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 207 रहा. वह सोमवार को 179 था.

क्या है गुणवत्ता का पैमाना

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने वायु की गुणवत्ता (Air Quality) का पैमाना तय कर रखा है. इसके मुताबिक, वायु गुणवत्ता (Air Quality) शून्य से 50 के बीच ‘अच्छी’, 51 से 100 ‘संतोषजनक’, 101 से 200 ‘मध्यम’, 201 से 300 ‘खराब’, 301 से 400 ‘बेहद खराब’ और 401 से 500 के बीच ‘गंभीर’ मानी जाती है.

पराली जलाने पर लगाम लगाने की कोशिश

पंजाब व हरियाणा की तरह दिल्ली के खेतों में धान की फसल अवशेष न जले इसके लिए दिल्ली सरकार किसानों को मुफ्त में दवाई उपलब्ध कराएगी. सोमवार को पर्यावरण मंत्री गोपाल राय नजफगढ़ के खड़खड़ी नाहर गांव में तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से पंजाब और हरियाणा में फसल अवशेष जलाए जाने पर रोक लगाने के लिए आग्रह किया है. दिल्ली सरकार भी अपने स्तर पर कोशिश कर रही है. जानकारी के मुताबिक, सोमवार को पराली जलाने के 298 मामले सामने आए.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें