Gujarat Exclusive > राजनीति > टीएमसी के कई नेता हुए भाजपा में शामिल, शाह बोले- दीदी यह तो सिर्फ आगाज है

टीएमसी के कई नेता हुए भाजपा में शामिल, शाह बोले- दीदी यह तो सिर्फ आगाज है

0
230

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) पश्चिम बंगाल चुनाव की तैयारियों के सिलसिले में ममता बनर्जी के गढ में पहुंचे हैं. आगामी विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. इसी बीच मिदनापुर की रैली में गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) की मौजूदगी में टीएमसी को छोड़ने वाले शुभेन्दु अधिकारी सहित कई नेताओं ने बीजेपी का दामन थामा.

शुभेंदु के अलावा टीएमसी सांसद सुनील मंडल और टीएमसी, लेफ्ट और कांग्रेस के 10 अन्य विधायकों ने भी बीजेपी में आधिकारिक तौर पर एंट्री की. इस मौके पर अमित शाह (Amit Shah) ने सभी नेताओं का पार्टी में स्वागत किया.

यह भी पढ़ें: किसान आंदोलन 24वें दिन भी जारी, राकेश टिकैत बोले- नहीं बंद करेंगे फूड सप्लाई चेन

रैली में शाह (Amit Shah) ने टीएमसी प्रमुख और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर सीधा हमला बोला. शाह ने कहा,

क्यों इतने सारे लोग तृणमूल कांग्रेस छोड़ रहे हैं. इसके पीछे ममता का कुशासन, भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद है. दीदी यह तो सिर्फ आगाज है, चुनाव आने तक आप अलग-थलग पड़ जाएंगी.”

अमित शाह (Amit Shah) ने कहा, “कुछ बड़बोले नेताओं ने कहा कि बंगाल में तृणमूल को कोई हरा नहीं सकता. मैं उनको याद कराना चाहता हूं कि सांसद के चुनाव के अंदर कहते थे कि बीजेपी का खाता नहीं खुलेगा. हमारे दिलीप घोष की आध्यक्षता और मोदी जी के नेतृत्व में 18 सीटें बीजेपी ने जीती हैं.” उन्होंने कहा कि चुनाव तक ममता अकेली रह जाएंगी.

शुवेंदी ने भी बोला हमला

रैली में शुवेंदु ने ममता बनर्जी और उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी पर सीधा हमला बोला. शुवेंदु ने कहा, “कोरोना से संक्रमित होने के दौरान तृणमूल के कई बड़े नेताओं को उन्हें फोन करना चाहिए था. लेकिन ऐसा नहीं हुआ. अमित शाह ने उन्हें दो बार फोन किया. मुकुल रॉय ने उनसे कहा था कि आत्मसम्मान रखने वाला कोई भी व्यक्ति टीएमसी में नहीं रह सकता. तृणमूल छोड़ने वाले अर्जुन सिंह पर 100 से ज्यादा मामले दर्ज हैं. मेरे भाई मनीष शुक्ला की हत्या करा दी गई.”

कई टीएमसी नेताओं ने छोड़ी पार्टी

मालूम हो कि शुवेंदु ने 27 नवंबर को ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की कैबिनेट के मंत्रिपद से इस्तीफा दे दिया था. उससे पहले उन्होंने 16 दिसंबर को तृणमूल कांग्रेस (TMC) छोड़ने का ऐलान किया था. उनके सहयोगियों ने साइक्लोन अंफन से भी ज्यादा तेज सियासी तूफान दार्जीलिंग से दीघा तक लाने का ऐलान किया है, जिसमें ममता बनर्जी की सरकार उड़ जाएगी.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें