Gujarat Exclusive > देश-विदेश > आंध्र प्रदेश CM ने CJI को लिखा खत, सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ जज पर लगाया गंभीर आरोप

आंध्र प्रदेश CM ने CJI को लिखा खत, सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ जज पर लगाया गंभीर आरोप

0
349
  • सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश पर लगाया अपनी सरकार गिराने का आरोप
  • खत में न्यायपालिका की निष्पक्षता सुनिश्चित करने की मांग
  • न्यायाधीश एन वी रमना पर तेलुगु देशम पार्टी के लिए काम करने का आरोप

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीश एन वी रमना के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एसए बोबड़े को खत लिखकर राज्य की न्यायपालिका की निष्पक्षता सुनिश्चित करने की मांग की है.

रेड्डी ने खत में सुप्रीम कोर्ट के जज के खिलाफ एक नहीं बल्कि कई गंभीर आरोप लगाए हैं.

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ जज पर लगाय गंभार आरोप

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया है कि न्यायाधीश एन वी रमना तेलुगु देशम पार्टी के लिए काम कर रहे हैं. वह राज्य के मुख्यमंत्री एवं विपक्ष के नेता चंद्रबाबू नायडू के काफी करीबी हैं.

इतना ही नहीं खत में आरोप लगाया गया है कि उनकी वजह से आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट का काम काज प्रभावित हो रहा है.

यह भी पढ़ें: देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 70 लाख के पार, एक दिन में दर्ज हुए 74 से ज्यादा नए मामले

न्यायपालिका की निष्पक्षता सुनिश्चित करने की मांग

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एस ए बोबड़े को लिखे खत में आरोप लगाया कि जस्टिस रमना तेलुगु देशम पार्टी के भ्रष्टाचार को उजागर करने वाले मुकदमों को प्रभावित कर रहे हैं.

उनके प्रभाव की वजह से इस मामले को आंध प्रदेश हाई कोर्ट के चुनिंदा जजों के पास भेजा जा रहा है.

गौरतलब है कि इससे पहले जस्टिस रमना चंद्रबाबू नायडू की सरकार में कानूनी सलाहकार और एडनिशनल एडवोकेट जनरल रह चुके हैं. खत में एक भूमि घोटाले का उल्लेख किया गया है.

खत के साथ ही साथ मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी भूमि घोटाले का जिक्र किया और सबूत के रूप में दस्तावेज भी साझा किए हैं. जिसमें कथित रूप से तेलुगु देशम पार्टी के नेताओं के पक्ष में फैसले दिए गए हैं.

ऐसे फैसले का भी जिक्र किया गया है, जो “नीतिगत मोर्चे और चंद्रबाबू नायडू के कार्यकाल में हुए कथित भ्रष्टाचार को उजागर करने की जांच में सरकार के काम में बाधा डालता है.”

यह अपने आप में अनोखा मामला है जहां राज्य के मुख्यमंत्री ने सीजेआई को सुप्रीम कोर्ट के जज के खिलाफ खत लिखकर शिकायत की है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंचतत्व में विलीन हुए रामविलास पासवान, मुखाग्नि देते वक्त गश खाकर गिरे चिराग