Gujarat Exclusive > राजनीति > भारी बहुमत के साथ तीसरी बार मुख्यमंत्री बनेंगे केजरीवाल, दोहरे अंक में भी नहीं पहुंच पाई बीजेपी

भारी बहुमत के साथ तीसरी बार मुख्यमंत्री बनेंगे केजरीवाल, दोहरे अंक में भी नहीं पहुंच पाई बीजेपी

0
166

नई दिल्ली : दिल्ली विधानसभा चुनावों के ताजा नतीजों में आम आदमी पार्टी भारी बहुमत के साथ सरकार बनाएगी जबकि अरविंद केजरीवाल का तीसरी बार मुख्यमंत्री बनना तय है. आलम ये रहा कि भारतीय जनता पार्टी सीट जीतने के मामले में दोहरे अंकों में भी नहीं पहुंच पाई है. 62 सीटों पर आप आगे चल रही है और खबर लिखे जाने तक 52 सीटों पर जीत दर्ज कर ली. वहीं बीजेपी आठ सीटों तक सिमटती दिखाई दे रही है.

आठ फरवरी को चुनाव खत्म होने के बाद हर एग्जिट पोल में अरविंद केजरीवाल को बहुमत दिया गया था. हालांकि, बीजेपी इन एग्जिट पोल को खारिज करती रही. लेकिन आज के नतीजों ने बीजेपी के दावों की हवा निकाल दी. पिछले विधानसभा चुनाव की तरह इस बार भी कांग्रेस को निराशा हाथ लगी. कांग्रेस के हाथ पिछली बार भी खाली रह गए थे. इस हार की जिम्मेदारी लेते हुए दिल्ली कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा ने इस्तीफे की पेशकश की है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस को हार जरूर मिली है लेकिन वे हताश नहीं हैं. सुभाष चोपड़ा ने अरविंद केजरीवाल को इस जीत के लिए बधाई दी. इसके साथ ही कहा कि ये जीत विज्ञापनों की बदौलत है.

इस चुनाव के शुरुआत से ही आम आदमी पार्टी स्थानीय मुद्दों के साथ चुनाव में उतरी. जैसा कि पहले जिक्र किया गया पार्टी स्कूल, बिजली और स्वास्थ्य जैसे मुद्दों के ऊपर लोगों से वोट मांगती रही. केजरीवाल ने यहां तक कहा कि अगर काम नहीं किया है तो वोट मत देना. यानी आप ने अपने पिछले पांच साल के काम को जनता के सामने रखा और उसी के हिसाब से वोट मांगने का काम किया. इन मुद्दों से आम आदमी पार्टी लोगों को कनेक्ट करने में कामयाब रही.

वहीं बीजेपी ने राष्ट्रवाद, नागरिकता कानून और केंद्र सरकार के काम को आगे रखा. चुनाव के अंतिम दिनों में बीजेपी ने अचानक शाहीन बाग के मुद्दे पर आक्रामक हो गई. बीजेपी ने जनता के बीच बार-बार जाकर शाहीन बाग के पीछे आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के सांठ-गांठ का आरोप लगाया.