Gujarat Exclusive > देश-विदेश > असदुद्दीन ओवैसी का दिल्ली सरकार से सवाल, ‘निगेटिव टेस्‍ट के बाद भी डिस्‍चार्ज क्‍यों नहीं किए जा रहे मरकज के लोग’

असदुद्दीन ओवैसी का दिल्ली सरकार से सवाल, ‘निगेटिव टेस्‍ट के बाद भी डिस्‍चार्ज क्‍यों नहीं किए जा रहे मरकज के लोग’

0
495

देश में कोरोना संक्रमण की गति तेज हो चली है. हालांकि अब धीरे-धीरे कोरोना संक्रमित मरीज ठीक होकर और अस्पताल से छुट्टी पाकर घर लौट रहे हैं. वहीं देशव्‍यापी कोरोना महामारी के बीच आल इंडिया मजलिस-ए-इत्‍तेहादुल मुसलमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने निजामुद्दीन मरकज को लोगों को लेकर दिल्‍ली सरकार पर एक आरोप लगाकर सियासी माहौल गरमा दिया है.

एआईएमआइएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने दिल्ली सरकार पर आरोप लगाया है कि मरकज के लोगों को ठीक होने के बावजूद अस्पताल से छुट्टी नहीं दी जा रही है. मालूम हो कि दिल्ली के निजामुद्दीन मकरज में हजारों लोग शामिल हुए थे जिसमें से काफी संख्या में लोग पॉजिटिव पाए गए थे.

ओवैसी ने एक ट्वीट कर कहा, ‘निगेटिव टेस्‍ट के बाद भी निजामुद्दीन मरकज के लोगों को डिस्‍चार्ज क्‍यों नहीं किया जा रहा है. वे दो बार जरूरी क्‍वारंटाइम की अवधि को पूरा कर चुके हैं लेकिन दिल्‍ली सरकार उन्‍हें डिस्‍चार्ज करने की इजाजत नहीं दे रही. ये 31 मार्च से वहां हैं और उन्‍हें तुरंत छुट्टी दी जानी चाहिए.

 

भारत में कोरोना वायरस की महामारी के दौरान निजामुद्दीन मरकज और तब्‍लीगी जमात का नाम सुर्खियों में आया था. निजामुद्दीन मरकज में तब्‍लीगी जमात के कार्यक्रम में बड़ी संख्‍या में लोग एकत्रित हुए थे और इसमें से कई लोग पॉजिटिव पाए गए थे. जमात के कार्यक्रम में भाग लेने वाले लोग बाद में अपने राज्‍य लौटे थे जहां दूसरे लोगों के संपर्क में आने के कारण वहां भी कोरोना के केसों की संख्‍या में इजाफा हुआ था. तब्‍लीगी जमात के कार्यक्रम को देश में कोरोना वायरस के केसों में वृद्धि के लिए काफी हद तक जिम्‍मेदार माना गया था.

डोनाल्ड ट्रंप का अनुमान, अमेरिका में कोरोना से एक लाख लोग गंवा सकते हैं जान