Gujarat Exclusive > राजनीति > कार्रवाई से खुशी नहीं लेकिन पायलट का रवैया ‘आ बैल मुझे मार’ का था: गहलोत

कार्रवाई से खुशी नहीं लेकिन पायलट का रवैया ‘आ बैल मुझे मार’ का था: गहलोत

0
1106

राजस्थान की राजनीति तेजी से करवट ले रही है. सोमवार को सचिन पायलट को मनाने की जुगत में जुटे कांग्रेसी नेताओं के मंगलवार होते-होते सुर बदल गए. पायलट को हटाए जाने के बाद उधर राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को बनाया गया है जबकि गणेश गोगरा को राजस्थान यूथ कांग्रेस का अध्य्क्ष बनाया गया है. उधर पायलट को हटाए जाने के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पहली बार मीडिया के सामने आए.

सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की ओर से लगातार सरकार को कमजोर करने की कोशिश हो रही थी. जिनपर एक्शन लिया गया है वो लगातार ‘आ बैल मुझे मार’ के रवैये के साथ काम कर रहे थे. वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को राज्यपाल से मुलाकात की. इस दौरान मंत्रिमंडल में बदलाव की जानकारी दी.

अशोक गहलोत ने कहा कि बीजेपी की ओर से पैसे और एजेंसियों के दम पर सरकारों को कमजोर किया जा रहा है. पहले मध्य प्रदेश में किया गया, अब राजस्थान में किया गया है. लेकिन हम बीजेपी के मंसूबों को पूरा नहीं होने देंगे. सचिन पायलट को लेकर उन्होंने कहा कि पार्टी की ओर से काफी मौका दिया गया, आज की बैठक उनके लिए रखी गई लेकिन कोई नहीं आया. कुछ नेता आना चाहते थे, लेकिन नहीं आ पाए.

अशोक गहलोत ने कहा कि जनता ने हमारा साथ दिया, लेकिन बीजेपी इसे स्वीकार नहीं कर पाई है. जिनपर एक्शन लिया गया उसपर हमें खुशी नहीं है, मैंने उनकी कोई शिकायत नहीं की. लेकिन उनका रवैया ऐसा ही रहा है, पिछले काफी वक्त से ‘आ बैल मुझे मार’ का रवैया रहा है. सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि पिछले तीन महीने से लगातार बयानबाजी की जा रही थी, लोगों की भावनाओं को समझना चाहिए. सीएम ने कहा कि मैंने किसी विधायक के साथ भेदभाव नहीं किया. पार्टी तोड़ना गलत है, कोई कह रहा है कि नई पार्टी बनाएंगे. हमारे साथ 122 लोग हैं और 107 कांग्रेस के हैं, अब फ्लोर टेस्ट की मांग की जा रही है. मतलब सरकार गिराने की कोशिश की जा रही है.

सत्य को परेशान किया जा सकता है, पराजित नहीं: सचिन पायलट