Gujarat Exclusive > देश-विदेश > अटल टनल का पीएम मोदी ने किया उद्घाटन, दुनिया की सबसे लंबी हाईवे सुरंग

अटल टनल का पीएम मोदी ने किया उद्घाटन, दुनिया की सबसे लंबी हाईवे सुरंग

0
306

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने रोहतांग में आज दुनिया की सबसे बड़ी ‘अटल टनल’ (Atal Tunnel) का लोकार्पण किया. रोहतांग में स्थित 9.02 किलोमीटर लंबी ये टनल मनाली को लाहौल स्फीति से जोड़ती है. इस टनल की वजह से मनाली और लाहौल स्फीति घाटी सालों भर एक-दूसरे से जुड़े रह सकेंगे. सर्दियों में पूर्वी लद्दाख को पूरे भारत से जोड़ने वाले इस टनल का नाम ‘अटल टनल’ (Atal Tunnel) रखा गया है. इसे हिमाचल के लोगों के लिए एक बड़ी सौगात माना जा रहा है.

पीएम के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी ‘अटल टनल’ (Atal Tunnel) के उद्धाटन कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे. साथ ही हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी इस मौके पर मौजूद रहे. सुरंग से मनाली और लेह की बीच दूरी कम होने की वजह से चार घंटों की बचत होगी.

यह भी पढ़ें : भारत में कोरोना से मरने वालों की संख्या 1 लाख पार, 24 घंटे में 1069 की मौत

हिमाचल प्रदेश के कुल्लु मनाली और लाहौल-स्पिति जिले में बनी 9 किलोमीटर लंबी इस सुरंग का काम पिछले 10 सालों से चल रहा था. अटल टनल दुनिया की सबसे लंबी हाईवे टनल है. यह 9 किलोमीटर लंबी सुरंग, मनाली को पूरे साल लाहौल-स्पीति घाटी से जोड़ती है.

पीएम मोदी ने लोकार्पण के बाद कहा,

 ‘टनल के उद्घाटन के बाद पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि आज सिर्फ अटल जी का ही सपना पूरा नहीं हुआ है, बल्कि हिमाचल प्रदेश के करोड़ों लोगों का दशकों पुराना इंतजार खत्म हुआ है. अक्सर लोकार्पण की चकाचौंध में वो लोग कहीं पीछे रह जाते हैं, जिनके परिश्रम से ये सब संभव हुआ है. इस महायज्ञ में अपना पसीना बहाने वाले, अपनी जान जोखिम में डालने वाले, मेहनतकश जवानों, इंजीनियरों और मजदूर भाई बहनों को मैं नमन करता हूं.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, अटल टनल भारत के बॉर्डर इंफ्रास्ट्रक्चर को नई ताकत देने वाली है. ये विश्व स्तरीय बॉर्डर कनेक्टिविटी का जीता-जागता उदाहरण है. पीएम मोदी ने कहा कि बीते 6 वर्षों में हमारी सरकार ने पुरानी स्थिति को बदलने की दिशा में अभूतपूर्व प्रयास किया है. हिमालय क्षेत्र, जम्मू-कश्मीर, कारगिल, लेह-लद्दाख, उत्तराखंड, सिक्किम में अनेकों प्रोजेक्ट्स पूरे किए जा चुके हैं. साथ ही दर्जनों प्रोजेक्ट्स पर तेजी से काम चल रहा है.

10 साल में हुआ निर्माण पूरा

अटल टनल (Atal Tunnel) को पूरा करने का अनुमानित समय 6 साल से कम था, लेकिन इसे 10 साल में पूरा किया गया. इससे पहले घाटी हर साल लगभग 6 महीने तक भारी बर्फबारी के कारण कट जाती थी. यह दुनिया का सबसे लंबा हाइवे सुरंग है जिसकी लंबाई दस हजार फीट से अधिक है.

‘अटल टनल’ (Atal Tunnel) का आकार घोड़े की नाल जैसा है. इसका दक्षिणी किनारा मनाली से 25 किलोमीटर की दूरी पर समुद्र तल से 3060 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, जबकि उत्तरी किनारा लाहौल घाटी में तेलिंग और सिस्सू गांव के नजदीक समुद्र तल से 3071 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. 10.5 मीटर चौड़ी इस सुरंग पर 3.6 x 2.25 मीटर का फायरप्रूफ आपातकालीन निकास द्वार बना हुआ है. ‘अटल टनल’ से रोजाना 3000 कारें, और 1500 ट्रक 80 किलोमीटर की स्पीड से निकल सकेंगे.

सुरक्षा के पूरे इंतजाम

सुरंग (Atal Tunnel) में हर 60 मीटर पर सीसीटीवी कैमरा लगा हुआ है जबकि हर 500 मीटर पर आपातकालीन निकास है. आग लगने की स्थिति में सुरंग के अंदर फायर हाइड्रेंट भी लगाए गए हैं. अटल टनल (Atal Tunnel) के दोनों पोर्टल्स पर टनल एंट्री बैरियर लगे हुए हैं. किसी भी आपातकालीन संचार के लिए प्रत्येक 150 एमटीआर पर टेलीफोन कनेक्शन दिए गए हैं. टनल में प्रत्येक 60 एमटीआर पर अग्नि हाइड्रेंट सिस्टम लगा हुआ है. टनल (Atal Tunnel) के अंदर हर 250 माउंट पर सीसीटीवी कैमरों के साथ ऑटो घटना का पता लगाने की प्रणाली को लगाया गया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें