Gujarat Exclusive > राजनीती > ‘बात बिहार की’ कंटेंट चोरी का आरोप, पटना में दर्ज हुई FIR, PK ने कहा-झूठा है दावा

‘बात बिहार की’ कंटेंट चोरी का आरोप, पटना में दर्ज हुई FIR, PK ने कहा-झूठा है दावा

0
75

चुनावी रणनीतिकार और जदयू के पूर्व उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर के खिलाफ पटना में गुरुवार को एफआईआर दर्ज हुई. प्रशांत पर कार्यक्रम ‘बात बिहार की’ के लिए मोतिहारी के रहने वाले इंजीनियर शाश्वत गौतम का कंटेट चोरी करने का आरोप लगाया है. पिछले दिनों प्रशांत ने ही यह कार्यक्रम बिहार में लॉन्च किया था. इसी के चलते प्रशांत और ओसामा के खिलाफ पटना के पाटलिपुत्र थाने में आईपीसी की धारा 406 और 420 यानी धोखाधड़ी के तहत केस दर्ज किया गया है.

मामला सामने आने के बाद प्रशांत किशोर ने इस तरह के दावे और एफआइआर पर कड़ा ऐतराज जताया है और कहा है कि यह कुछ नहीं, बल्कि एक व्यक्ति द्वारा अपने दो मिनट की प्रसिद्धि हासिल करने के लिए किया गया दावा और शरारत है, और कुछ नहीं. कानून और जांच एजेंसियों को पूरी तरह से और तेजी से इस मामले की जांच करनी चाहिए ताकि सार्वजनिक तौर पर सच्चाई सबके सामने आ सके.

प्रशांत पर केस दर्ज कराने वाले शाश्वत गौतम पहले कांग्रेस के लिए काम कर चुके हैं. शाश्वत ने उस समय ‘बिहार की बात’ नाम से एक प्रोजेक्ट बनाया था, जिसे भविष्य में लॉन्च करने की तैयारी थी. इसी बीच शाश्वत के साथ काम करने वाले युवक ओसामा ने इस्तीफा दे दिया. ओसामा पटना यूनिवर्सिटी का छात्र रहा है. वह स्टूडेंट यूनियन का चुनाव भी लड़ चुका है. आरोप है कि ओसामा ने ही कार्यक्रम का सारा कंटेंट प्रशांत किशोर को सौंपा. प्रशांत ने इसे अपनी वेबसाइट पर डाल दिया. शाश्वत ने इस बारे में पुलिस को कुछ सबूत भी सौंपे हैं.

गौरतलब हो कि प्रशांत किशोर ने 20 जनवरी को कार्यक्रम ‘बात बिहार की’ लॉन्च किया था. प्रशांत के इस अभियान से कुछ घंटों के भीतर ही तीन लाख से ज्यादा लोग जुड़ गए थे. इस मौके पर प्रशांत ने कहा था कि इस मुहिम के जरिए बिहार को बदलने की चाहत रखने वाले युवाओं को जोड़ा जाएगा. अगले 100 दिनों के भीतर इस अभियान से 10 लाख लोगों को जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है.