Gujarat Exclusive > देश-विदेश > बाबा रामदेव के दावों पर फिर उठे सवाल, WHO ने कहा- किसी पारंपरिक दवा को नहीं दी मंजूरी

बाबा रामदेव के दावों पर फिर उठे सवाल, WHO ने कहा- किसी पारंपरिक दवा को नहीं दी मंजूरी

0
468

Baba Ramdev: योगगुरू बाबा रामदेव द्वारा कोरोना की नई दवा को लॉन्च करने के साथ ही एकबार फिर विवाद खड़ा हो गया है. बाबा रामदेव ने कोरोना की नई दवा लॉन्च करते हुए दवा किया था कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के निर्देशों के मुताबिक भारत सरकार ने इसे मंजूरी दी है. अब डब्ल्यूएचओ का एक बयान सामने आया है जिसके बाद बाबा रामदेव के दावों पर सवाल खड़े हो रहे हैं. Baba Ramdev

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि उसने कोरोना की किसी भी पारंपरिक दवा को मंजूरी नहीं दी है. Baba Ramdev

यह भी पढ़ें: गुजरात नगर निगम चुनाव: 2015 के मुकाबले 2021 में कम हुई वोटिंग, क्या कोरोना है कारण?

पतंजलि या फिर कोरोनिल दवा का जिक्र किए बिना विश्व स्वास्थ्य संगठन की दक्षिण पूर्व एशियाई यूनिट ने ट्वीट किया है, ‘विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना के इलाज में किसी पारपंरिक दवा के प्रभाव को मंजूरी नहीं दी है’ Baba Ramdev

 

स्वास्थ्य मंत्री की मौजूदगी में लॉन्चिंग

इससे पहले योगगुरू बाबा रामदेव ने कोरोना की नई दवा को स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की मौजूदगी में लॉन्च किया. लॉन्चिंग के दौरान बाबा रामदेव ने कहा, ‘साइंटिफिक रिसर्च एविडेंस पेश किए जाने के बाद केंद्र सरकार ने इस दवा को मंजूरी दी है. इसे अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर परमिशन दी गई है. अब हम इस दवा को दुनिया के 150 से ज्यादा देशों में बेच सकते हैं.’ Baba Ramdev

बाबा रामदेव ने कहा था कि जिन लोगों को कोरोना के इलाज के लिए दूसरी दवाएं नहीं मिल रही हैं, वे कोरोनिल का इस्तेमाल कर सकते हैं. हरिद्वार स्थित बाबा रामदेव की कंपनी का कहना था कि इस दवा को विश्व स्वास्थ्य संगठन की सर्टिफिकेशन स्कीम के तहत आयुष मिनिस्ट्री से मंजूरी मिली है. Baba Ramdev

पिछले साल भी हुआ था विवाद

इससे पहले आयुष मंत्रालय ने जून में पतंजलि द्वारा लॉन्च की गई कोरोनिल दवा को कोरोना मरीजों के लिए इम्युनिटी बूस्टर के लिए अहम बताया था. हालांकि तब पहले बाबा रामदेव ने उसे कोरोना की दवा करार दिया था जिसके बाद काफी विवाद हुआ था. बाद में बाबा ने उसके इम्यूनिटी बूस्टर करार दिया था. आयुष मंत्रालय ने कहा था कि कोरोनिल में मौजूद पदार्थ रोग प्रतिरोध क्षमता बढ़ाने वाले हैं, ना कि यह कोरोना की दवा है. Baba Ramdev

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें