Gujarat Exclusive > गुजरात > बनास डेयरी चुनाव में शंकर चौधरी की शानदार जीत, सभी 16 सीटों पर निर्विरोध

बनास डेयरी चुनाव में शंकर चौधरी की शानदार जीत, सभी 16 सीटों पर निर्विरोध

0
485
  • बनास डेयरी चुनाव में भाजपा नेता शंकर चौधरी का दबदबा
  • चुनाव में 16 में से 16 निदेशक निर्विरोध
  • वाइस चेयरमैन मावजी देसाई ने पर्चा वापस लिया

पालनपुर: एशिया की सबसे बड़ी डेयरी बनास डेयरी ने होने वाले चुनाव में पूरा निदेशक मंडल निर्विरोध चुना गया है. बनास डेयरी के 16 में से 16 निदेशकों को निर्विरोध चुना गया है.

जिसके बाद शंकर चौधरी का एक बार फिर से प्रभुत्व देखने को मिला. आखिरकार मावजी देसाई जिन्हें शंकर चौधरी का प्रतिद्वंद्वी माना जाता था उन्होंने भी अपना पर्चा वापस ले लिया था.

इसके साथ ही शंकर चौधरी ने सहकारी क्षेत्र की राजनीति में फिर से प्रवेश किया है. माना जाता है कि युवा राजनेता के रूप में उन्होंने सहकारी क्षेत्र में अपनी पैठ को मजबूत बना लिया है.

सहकारी क्षेत्र में शंकर चौधरी का दबदबा कायम

भाजपा नेता शंकर चौधरी का बनास डेयर चुनाव में दबदबा देखने को मिला. चुनाव में उनके पैनल के 16 में से 16 निर्देशक निर्विरोध चुन लिए गए.

चुनाव में पूर्व अध्यक्ष पद से भटोणे ने पर्चा वापस ले लिया जिसकी वजह से सहकारी क्षेत्र में हड़कंप मच गया.

शंकर चौधरी के खिलाफ खड़े हुए उपाध्यक्ष मावजी देसाई भी अपना पर्चा वापस ले लिया जिसकी वजह से चौधरी को खुला मैदान मिल गया.

पर्चा वापस लेने के बाद मावजी देसाई ने कहा, “समाज में विवाद से बचने के लिए फॉर्म वापस ले लिया है.”

यह भी पढ़ें: गुजरात में शराब बंदी? लेकिन NCRB की रिपोर्ट ने खोल दी पोल

उल्लेखनीय है कि सांतलपुर से राघाभाई आयर, सुई गांव से मूणजीभाई पटेल, दंतीवाड़ा से पार्थीभाई चौधरी, धानेरा से जोइताभाई पटेल, राधनपुर से शंकर चौधरी, पालनपुर से भारत पटेल को निर्विरोध चुन लिया गया.

इसके अलावा कांकरेज सीट से अणदा पटेल और दियोदर से ईश्वर पटेल को निर्विरोध चुन लिया गया है.

उल्लेखनीय है कि सबसे पहले 16 में से 11 सीटों पर भाजपा नेता शंकर चौधरी का पैनल निर्विरोध चुना गया था. क्योंकि किसी ने उनके सामने पर्चा ही नहीं भरा था.

इससे पहले के चुनाव में भी शंकर चौधरी के पैनल 16 में से 9 के सामने किसी उम्मीदवार ने फॉर्म ही नहीं भरा था.

इस साल होने वाले चुनाव में 16 में से 16 सीटों पर शंकर चौधरी के पैनल के उम्मीदवारों का निर्विरोध चुने जाने से साफ हो जाता है कि डेयरी के अध्यक्ष शंकर चौधरी का वर्चस्व आज भी बना हुआ है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

जामनगर में नाबालिग के साथ बलात्कार, पीड़िता के पिता ने की आत्महत्या