Gujarat Exclusive > गुजरात > मैं अमर हो गया, नहीं मरूंगा, साधू के कहने पर शिष्य ने किया घातकी हमला…मौत

मैं अमर हो गया, नहीं मरूंगा, साधू के कहने पर शिष्य ने किया घातकी हमला…मौत

0
321

गुजरात के बोटाद जिला के एक साधू ने दावा किया था कि मैंने विधि विधान किया है. इसलिए मैं अमर हो गया हूं. मुझे अब कुछ नहीं होगा. इतना ही नहीं महंत ने अपने शिष्य को हमला कर देखने का भी आदेश दिया था. शिष्य ने आज्ञा का पालन करते हुए धारदार हथियार से हमला कर दिया, इस घातकी हमले से महंत की मौत हो गई. जिससे घबराकर महंत के शव और हथियार को कुएं में फेंककर शिष्य मौके से फरार हो गया.

चोसला गांव में पांच दिन पहले पुलिस ने महंत के शव को बरामद किया था. पुलिस मामला दर्ज कर जांच कर रही थी. हत्या के रहस्य से पर्दा उठाने के बाद पुलिस भी चौंक गई है. पुलिस के हाथों जानकारी लगी कि हत्या अंधविश्वास की वजह से हुई है. पुलिस फिलहाल आरोपी शिष्य को गिरफ्तार कर आगे की पूछताछ कर रही है.

बोटाद जिले के गढ़ा (स्वामिना) तालुका और ढसा ताबे के चोसला गांव में हनुमानजी मंदिर आश्रम के महंत रामदासजी गुरु मोहनदासजी चार दिनों से लापता थे. उनका शव पिछले गुरुवार को काफी तलाशी के बाद आश्रम के कुएं में मिला था. पुलिस मामला दर्ज कर जांच कर रही थी. हत्या के रहस्य से पर्दा उठाने के बाद पुलिस भी चौंक गई है.

पुलिस जांच में पता चला कि महंत की उसके गांव में रहने वाला नितिन कुवरजी ने धारदार हथियार से हत्या कर शव को आश्रम के कुएं में फेंक दिया था. पुलिस ने मृतक के भाई के शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था. आरोपी ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि हनुमानजी मंदिर आश्रम के महंत रामदासजी गुरु मोहनदासजी ने दावा किया था कि मैं अमर हो गया हूं. इसलिए मुझे कुछ नहीं होगा. इसकी सच्चाई जानने के लिए मैंने हमला किया था.

विजय रूपाणी की नाराजगी पर पाटिल का बड़ा बयान, जिम्मेदारियां बदलना इसे…