Gujarat Exclusive > देश-विदेश > भीम आर्मी के 400 कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज, चीफ चंद्रशेखर का नाम भी शामिल

भीम आर्मी के 400 कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज, चीफ चंद्रशेखर का नाम भी शामिल

0
225

उत्तर प्रदेश के हाथरस गैंगरेप मामले (Hathras gangrape case) को लेकर अभी भी हालात समान्य नहीं हो पाए हैं. घटना के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी के बाद भीम आर्मी चीफ (Bhim Army) चंद्रशेखर रावण रविवार को पीड़ित परिवार से मिलने हाथरस पहुंचे थे.

काफी हंगामे के बाद पुलिस ने चंद्रशेखर रावण के साथ 10 लोगों को परिवार वालों से मिलने दिया. हालांकि यूपी पुलिस ने इस मामले में भीम आर्मी चीफ (Bhim Army) सहित 400 कार्यकर्ताओं के खिलाफ धारा 188 और 144 के तहत केस दर्ज किया है.

भीम आर्मी (Bhim Army) प्रमुख चंद्रशेखर रावण समेत पार्टी के करीब 400 कार्यकर्ताओं पर हंगामा करने और निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने के मामले में सोमवार को केस दर्ज कर लिया.

यह भी पढ़ें: अहमदाबाद: भाजपा के पूर्व सांसद को बाउंस चेक मामले में 2 साल की जेल

चंद्रशेखर रविवार को कार्यकर्ताओं के साथ हाथरस में गैंगरेप पीड़िता के गांव पहुंचे थे, पुलिस ने पहले उन्हें पीड़ित के परिजनों से मिलने नहीं दिया, लेकिन काफी हंगामे और लाठीचार्ज के बाद आजाद समेत 10 समर्थकों (Bhim Army)  को अनुमति दे दी.

कौन –कौन से धारा लगे Bhim Army

चंद्रशेखर रावण और अन्य पर पुलिस ने धारा 188, धारा 144 का उल्लंघन करने के आरोप में मामला दर्ज किया है. जिले की सासनी कोतवाली में थाना चङ्पा में सैकड़ों लोगों के खिलाफ यह मुकदमा दर्ज किया गया. इसमें रालोद नेता जयंत चौधरी भी शामिल हैं, जिन पर लाठीचार्ज का आरोप पुलिस पर है.

चंद्रशेखर ने लगाए पिटाई के आरोप Bhim Army

भीम आर्मी (Bhim Army) चीफ चंद्रशेखर ने पुलिस पर पिटाई का आरोप लगाया और कहा कि पीड़िता का परिवार गांव में नहीं रहना चाहता. चंद्रशेखर ने कहा कि परिवार मेरे साथ ही जाना चाहता था. आसपास भी पंचायत हुई है, जिसके कारण पीड़ित परिवार असुरक्षित महसूस कर रहा है. भीम आर्मी के प्रमुख ने कहा कि जब कंगना रनौत को वाई कैटेगरी की सुरक्षा दी जा सकती है, तो इस परिवार को क्यों नहीं.

चंद्रशेखर ने कहा कि यदि प्रशासन इस परिवार को सुरक्षा मुहैया नहीं करा सकता तो वह भी हमें बताए. पीड़ित परिवार को अपने घर ले जाएंगे और भीम आर्मी (Bhim Army) के 1000 सदस्य परिवार की सुरक्षा करेंगे. मालूम हो कि हाथरस में एक दलित युवती से गैंगरेप की घटना सामने आई थी. इसके बाद पीड़िता की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई थी. तब से लगातार पीड़िता के गांव में पुलिस का सख्त पहरा है और पूरे हाथरस में धारा 144 लगा दी गई थी.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें