Gujarat Exclusive > राजनीति > चुनावी मैदान में पति को पटखनी देने को तैयार, तेज प्रताप के खिलाफ चुनाव लड़ सकती है ऐश्वर्या

चुनावी मैदान में पति को पटखनी देने को तैयार, तेज प्रताप के खिलाफ चुनाव लड़ सकती है ऐश्वर्या

0
341
  • कोरोना संकट के बीच होगा बिहार विधानसभा चुनाव
  • विधानसभा का चुनाव हर दिन बनता जा रहा है रोचक
  • पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय की जेडीयू में हुई एंट्री
  • जेडीयू तेज प्रताप की पत्नी को उनके खिलाफ चुनावी मौदान में उतारने की बना रही रणनीति

देश में कोरोना के बढ़ते आंतक के बीच चुनाव आयोग ने बिहार विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान कर दिया है.

पहले चरण का मदताद 28 अक्टूबर को होगा. दूसरे चरण की वोटिंग 3 नवंबर जबकि तीसरे और आखिरी चरण का मतदान 7 नवंबर को होगा.

वोटों की गिनती 10 नवंबर को की जाएगी. चुनाव की तारीखों का ऐलान होने के बाद विधानसभा का चुनाव हर दिन रोचक बनता जा रहा है.

विधानसभा का चुनाव हर दिन बनता जा रहा है रोचक

अभी कल की बात है जब तमाम कयोसों पर पूर्ण विराम लगाते हुए बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने नीतीश कुमार की जेडीयू में शामिल हो गए है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई है. ऐसे में एक और रोचक जानकारी सामने आ रही है कि लालू के लाल तेज प्रताप हसनपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं.

लेकिन चुनावी मैदान में उन्हे पटखनी देने के लिए जेडीयू उनकी पत्नी ऐश्वर्या राय को मैदान में उतार सकता है.

यह भी पढ़ें: बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय सीएम नीतीश की पार्टी जेडीयू में हुए शामिल

तेज प्रताप की पत्नी को उनके खिलाफ चुनावी मौदान में उतार सकती है जेडीयू

बीते दिनों बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप ने हसनपुर विधानसभा सीट का दौरा किया था.

वहां सियासी माहौल देखने के बाद उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए ऐलान किया था कि वह आगामी विधानसभा सीट यहीं से लड़ेंगे.

माना जा रहा है कि हसनपुर में यादव समुदाय के लोगों का दबदबा है ऐसे में तेज प्रताव उन्ही के भरोसे इस सीट से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं.

लेकिन जेडीयू उन्हे पटखनी देने के लिए उनके खिलाफ उनकी पत्नी को मैदान में उतारने की रणनीति बना रही है.

गौरतलब है कि तेज प्रताप के ससुर चंद्रिका राय पहले ही जेडीयू में शामिल हो चुके हैं. ऐसे में अगर तेज प्रताप के खिलाफ उनकी पत्नी चुनावी मैदान में उतरती हैं तो चुनाव काफी रोचक हो जाएगा.

फिलहाल इस सीट से 2015 में होने वाले चुनाव में राजकुमार राय को कामयाबी मिली थी. वह जेडीयू और आरजेडी के संयुक्त उम्मीदवार थे.

तेज प्रताप ने तो इस सीट से चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है लेकिन जेडीयू ने अभी तक इस मामले को लेकर अपना पत्ता नहीं खोला है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

बिहार चुनाव से पहले तेजस्वी का बड़ा वादा, कहा- 10 लाख युवाओं को देंगे नौकरी