Gujarat Exclusive > राजनीति > बिहार विधानसभा चुनाव से पहले NDA को बड़ा झटका, LJP को नीतीश का नेतृत्व मंजूर नहीं

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले NDA को बड़ा झटका, LJP को नीतीश का नेतृत्व मंजूर नहीं

0
260
  • बिहार विधानसभा चुनाव दिन प्रतिदिन होता जा रहा है दिलचस्प
  • चुनाव से बिल्कुल पहले लोजपा ने लिया बड़ा फैसला
  • एनडीए को लगा बड़ा झटका लेकिन केंद्र सरकार को जारी रहेगा समर्थन

बिहार विधानसभा चुनाव के तारीखों का ऐलान हो चुका है. चुनाव से बिल्कुल पहले एनडीए को बड़ा झटका लगा है.

एनडीए के साथ सीटों के बंटावरे का फार्मुला सेट नहीं होने के बाद लोक जनशक्ति पार्टी ने नीतीश कुमार के नेतृत्व में चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है.

आज होने वाली संसदीय दल की बैठक में फैसला लिया गया है कि पार्टी अपनी दम पर अकेले बिहार विधानसभा चुनाव लड़ेगी.

LJP को नीतीश का नेतृत्व मंजूर नहीं

बीते कुछ दिनों से लोक जनशक्ति पार्टी सीट बंटवारे को लेकर दबाव बना रही थी. लेकिन चुनाव में बराबर की हिस्सेदारी नहीं मिलने की वजह से अब एनडीए से अलग होने का फैसला लिया गया है.

दिल्ली में रविवार को संसदीय दल की बैठक का आयोजन किया गया जिसमें चिराग पासवान ने जीत की उम्मीद जताया.

माना जा रहा है कि एलजीपी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई में एनडीए के साथ रहकर मिलकर चुनाव लड़ना मंजूर नहीं है. इसीलिए पार्टी ने फैसला लिया है वह खुद की दम पर चुनाव लड़ेगी.

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले NDA को बड़ा झटका

संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद पार्टी के प्रधानसभा महासचिव अब्दुल खालिक ने जानकारी देते हुए कहा कि पार्टी ने आज फैसला लिया है कि एनडीए गठबंधन की ओर से सीएम नीतीश कुमार की अगुवाई में विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेगी.

उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी “बिहार पहले बिहारी पहले” के स्लोगन के साथ चुनाव मैदान में उतरेगी.


उन्होंने आगे जानकारी देते हुए कहा कि पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पूरी तरह से समर्थन किया है और आगे भी करती रहेगी.

लेकिन विधानसभा चुनाव में जेडीयू के साथ वैचारिक मतभेद की वजह से लोजपा एनडीए के गठबंधन से अलग होकर चुनाव लड़ने का फैसला लिया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

सत्ता में आते ही कांग्रेस कृषि कानूनों को कूड़ेदान में फेंक देगी: राहुल गांधी