Gujarat Exclusive > देश-विदेश > बिहार: किशोर की हत्या के मामले में छह गिरफ्तार, दो आरोपी हिंदू संगठनों से

बिहार: किशोर की हत्या के मामले में छह गिरफ्तार, दो आरोपी हिंदू संगठनों से

0
389

नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ पटना में प्रदर्शन में शामिल हुए एक युवक की हत्या के आरोप में छह लोगों को गिरफ़्तार किया गया है। गिरफ़्तार लोगों में से दो आरोपी संदिग्ध हिंदू संगठनों से जुड़े हैं। युवक का शव प्रदर्शन के 10 दिन बाद 31 दिसंबर को मिला था और युवक को आख़िरी बार नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ आरजेडी के प्रदर्शन के दौरान हाथों में तिरंगा झंडा लिए देखा गया था। प्रदर्शन को ख़त्म करने के लिए जब पुलिस ने बल का प्रयोग किया था तब वह युवक वहाँ से जाने की कोशिश में था और इसी दौरान उसकी हत्या कर दी गई थी।

पुलिस ने कहा है कि फुलवारी शरीफ में बैग सिलाई का काम करने वाले 18 वर्षीय आमिर हंज़ला की हत्या के आरोप में हिंदू पुत्र संगठन के 23 वर्षीय नागेश सम्राट, हिंदू समाज संगठन के 21 वर्षीय विकास कुमार सहित छह लोगों को गिरफ़्तार किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने इसकी पुष्टि की है कि हिंदू पुत्र संगठन उन 19 संस्थाओं में से है जिसके कार्यालयों और इससे जुड़े लोगों के बारे में बिहार पुलिस की विशेष शाखा ने पिछले साल मई में ही जानकारी जुटाने के लिए पत्र भेजा था।

फुलवारी शरीफ पुलिस स्टेशन इन-चार्ज रफीक उर रहमान ने कहा, ‘अब तक जांच में पता चला कि जब पुलिस ने प्रदर्शन की जगह पहुंच कर लोगों को हटाया तब आमिर भी वहां से निकलने की कोशिश कर रहा था. आमिर को कुछ लड़कों ने संगत गली इलाके में पकड़ लिया. पोस्ट मोर्टम रिपोर्ट के मुताबिक आमिर को मारने के लिए ईंटों और धारदार हशियारों का इस्तेमाल किया गया. आमिर के सिर पर घाव थे और शरीर पर दो कट थे. शरीर में पेट के पास कई सारा खून जमा हो गया जो बताता है कि आमिर को इंटरनल ब्लीडिंग हुई.’

हंजला के पिता सोहेल अहमद ने बताया कि आमिर पहली बार किसी विरोद प्रदर्शन में शामिल हुआ. उन्होंने कहा, ‘उसका क्या कसूर था? वो तिरंगा लेकर खड़ा था.’

US का बगदाद एयरपोर्ट पर हमला, ईरान के जनरल कासिम की मौत