Gujarat Exclusive > यूथ > कोटला स्टेडियम में जेटली की प्रतिमा का विरोध, बेदी ने डीडीसीए से दिया इस्तीफा

कोटला स्टेडियम में जेटली की प्रतिमा का विरोध, बेदी ने डीडीसीए से दिया इस्तीफा

0
256

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और बाएं हाथ के स्पिनर बिशन सिंह बेदी (Bishan Singh Bedi) ने दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) से सदस्य के तौर पर इस्तीफा दे दिया है. बेदी (Bishan Singh Bedi) ने कोटला स्टेडियम में अरूण जेटली की प्रतिमा लगाए जाने पर विरोध जताया है. उन्होंने कहा है कि उनके नाम पर जो दिल्ली के अरुण जेटली स्टेडियम में स्टैंड है, उससे भी उनका नाम हटना चाहिए.

बताया जा रहा है कि बेदी (Bishan Singh Bedi) डीडीसीए के नए अध्यक्ष रोहन जेटली के काम से नाखुश हैं. 74 साल के बेदी डीडीसीए के मौजूदा अध्यक्ष रोहन जेटली के कामों से खुश नहीं है. दो साल पहले ही कोटला स्टेडियम में एक स्टैंड का नाम बेदी (Bishan Singh Bedi) के नाम पर रखा गया था. बेदी ने 70 के दशक में दिल्ली को दो बार रणजी ट्रॉफी खिताब दिलाया है.

यह भी पढ़ें: डीडीसी चुनाव में भाजपा बनी सबसे बड़ी पार्टी, रविशंकर बोले- नतीजे गुपकार के मुंह पर तमाचा

बेदी (Bishan Singh Bedi) ने मंगलवार रात को रोहन को पत्र लिखते हुए कहा है, “मुझे अपने आप पर गर्व है कि मैं काफी सहनशील और धैर्यवान व्यक्ति हूं, लेकिन डीडीसीए जिस तरह से चल रही है उसने मेरी परीक्षा ली है और इसी ने मुझे यह(सदस्या छोड़ने और स्टैंड से नाम हटाने) फैसला लेने को मजबूर किया है. इसलिए अध्यक्ष महोदय मैं आपसे अपील करता हूं कि आप मेरा नाम स्टैंड पर से तत्काल प्रभाव से हटा दें. साथ ही मैं अपनी डीडीसीए की सदस्यता त्याग रहा हूं. मैंने यह फैसला जानबूझ कर लिया है.”

प्रतिमा लगाने की तैयारी

जेटली 1999 से 2013 के बीच 14 साल तक डीडीसीए अध्यक्ष रहे. क्रिकेट संघ उनकी याद में कोटला पर छह फुट की प्रतिमा लगाने की सोच रहा है. डीडीसीए ने 2017 में मोहिंदर अमरनाथ और बेदी के नाम पर स्टैंड्स का नामकरण किया था. बता दें कि अरुण के खिलाफ बेदी ने 1999 में अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ा था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें