Gujarat Exclusive > राजनीति > बीजेपी का विपक्ष पर तीखा हमला, संबित पात्रा ने कहा, ‘हाथ में संविधान दिल में वारिस पठान’

बीजेपी का विपक्ष पर तीखा हमला, संबित पात्रा ने कहा, ‘हाथ में संविधान दिल में वारिस पठान’

0
393

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के नेता वारिस पठान (Waris Pathan) के भड़काऊ बयान पर भारतीय जनता पार्टी ने तीखा हमला बोला है. बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा है कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान घृणा की राजनीति हो रही है. उन्होंने असदुद्दीन ओवैसी के मंच पर ‘पाकिस्तान जिन्दाबाद’ के नारे लगाये जाने के मामले का जिक्र कर कहा कि पूरे देश में नफरत फैलाने की कोशिश की जा रही है.

मालूम हो कि नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ कर्नाटक के गुलबर्गा में जनसभा के दौरान वारिस पठान ने विवादित बयान दिया था. उन्होंने कहा था, ‘हम 15 करोड़ ही 100 करोड़ लोगों पर भारी हैं. यह बात याद रख लेना.’ जिसके बाद उनकी आलोचना की गई, असदुद्दीन ओवैसी ने भी इस बयान की निंदा की थी. हालांकि बयान के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने वारिस पठान के मीडिया से बात करने पर रोक लगा दी है.

संबित पात्रा ने ने कहा, पाकिस्तान जिन्दाबाद का नारा लगाने वाले से तो माइक छीन लिया गया लेकिन वारिस पठान के भाषण पर माइक क्यों नहीं छीना गया, जबकि उस वक्त मंच पर ओवैसी खुद मौजूद थे. जब मंच के पीछे सिखाया जाता है तो कभी-कभी मंच के आगे हकीकत निकल जाती है. पात्रा ने कहा, नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में पूरे देश में घृणा की राजनीति कुछ लोग जो कर रहे हैं. उसका उदाहरण आज हम लेकर आए हैं. देश में हो रहे इस पूरे आंदोलन में उनका कोई तथाकथित लीडर है तो वह असदुद्दीन ओवैसी और एआईएमआईएम पार्टी है.

दिल्ली के भाजपा दफ्तर में प्रेस वार्ता के दौरान पात्रा ने पूछा कि ‘हमें बताएं कि आपको कौन सी आजादी चाहिए.’ पूछा कि ‘आखिर 15 करोड़ बनाम 100 करोड़ की बात क्यों की जा रही है.’ उन्होंने कहा कि ‘ओवैसी की नीयत में खोट है.’ उन्होंने राहुल गांधी, प्रियंका गांधी समेत अन्य विपक्ष पर हमला करते हुए कहा कि ये लोग सीएए के नाम पर लोगों में भ्रम फैला रहे हैं. इनके हाथ में संविधान है लेकिन दिल में वारिस पठान है. हम नहीं चाहते कि अतीत में जो इस देश ने झेला वह फिर से ऐसे किसी साजिश का शिकार हो जिससे कि देश की अक्षुण्णता और अखंडता पर आंच आए. उन्होंने कहा कि जो मंच के पीछे सिखाया जाता है वह कभी-कभी मंच के आगे हकीकत निकल जाती है.