Gujarat Exclusive > देश-विदेश > चीन से तनातनी के बीच भारत ने सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का किया सफल परीक्षण

चीन से तनातनी के बीच भारत ने सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का किया सफल परीक्षण

0
228

 भारतीय नौसेना (Indian Navy) ने एक और कामयाबी हासिल की है. नौसेना के स्वदेशी स्टील्थ डिस्ट्रॉयर आईएनएस चेन्नई से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल (BRAHMOS supersonic cruise missile) का सफलतापूर्वक परीक्षण कर दिया है. ब्रह्मोस (BRAHMOS supersonic cruise missile)  प्राइम स्ट्राइक हथियार के रूप में नेवल सर्फेस लक्ष्यों को लंबी दूरी तक निशाना बनाकर युद्धपोतों की अजेयता सुनिश्चित करेगा.

सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल (BRAHMOS supersonic cruise missile) परीक्षण के दौरान अरब सागर में एक लक्ष्य पर निशाना साधा गया. मिसाइल ने इस लक्ष्य को बेहद सटीकता से भेदा. डीआरडीओ के मुताबिक, नौसेना के स्वदेशी स्टील्थ डिस्ट्रॉयर INS चेन्नई से अरब सागर में टारगेट किया गया था. मिसाइल (BRAHMOS supersonic cruise missile) ने सटीकता के साथ टारगेट को सफलतापूर्वक हिट किया.

चीन से तकरार के बीच बड़ी सफलता

गौरतलब है कि चीन के साथ सीमा पर जारी तनाव के बीच भारत अपनी शक्तियों को मजबूत करने में लगा हुआ है. इसी कड़ी में रविवार को देश को एक बड़ी कामयाबी मिली है. भारत अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख में चीन से लगने वाली सीमाओं पर पहले ही ये ब्रह्मोस मिसाइल तैनात कर चुका है.

यह भी पढ़ें: बलिया गोलीकांड: फरार चल रहा मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह लखनऊ से गिरफ्तार

पहले इसकी रेंज 290 किलोमीटर थी बाद में 400 किलोमीटर से ज्यादा तक कर दी गई है. अनुमान के मुताबिक सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल (BRAHMOS supersonic cruise missile)  450 किलोमीटर से अधिक दूरी तक निशाने को तबाह कर सकती है.

30 सितंबर को चांदीपुर में परीक्षण

इससे पहले रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने ओडिशा के चांदीपुर में 30 सितंबर को ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का परीक्षण किया था. बता दें कि ब्रह्मोस पहली सुपरसोनिक क्रूज़ मिसाइल है, जो इस वक्त सर्विस में है. 2005 में आईएनएस राजपूत पर भारतीय नेवी ने इस मिसाइल का इंडक्शन किया था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें