Gujarat Exclusive > देश-विदेश > बीएसएफ का 56वां स्थापना दिवस आज, पीएम और रक्षामंत्री ने दी जवानों को शुभकामनाएं

बीएसएफ का 56वां स्थापना दिवस आज, पीएम और रक्षामंत्री ने दी जवानों को शुभकामनाएं

0
192

 आज सीमा सुरक्षा बल (BSF) अपना 56वां स्थापना दिवस मना रहा है. बीएसएफ (BSF) के रेजिंग डे दिल्ली के छावला कैंप में मनाया जा रहा है. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और गृहमंत्री अमित शाह ने जवानों को शुभकामनाएं दी हैं.

बीएसएफ (BSF) की स्थापना पाकिस्तान और बांग्लादेश के साथ अन्तर्राष्ट्रीय सीमाओं को सुरक्षित बनाने के लिए की गई थी. 1 दिसंबर 1965 में बीएसएफ (BSF) की स्थापना हुई थी.

यह भी पढ़ें: गुजरात में 2 लाख 10 हजार के करीब कोरोना से संक्रमित, 1502 नए मामले मिले

इस मौके पर पीएम मोदी ने ट्वीट कर जवानों का अभिवादन किया. उन्होंने 56वें स्थापना दिवस पर सीमा सुरक्षा बल (BSF) के जवानों को शुभकामनाएं दी हैं. उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल से ट्विट कर लिखा,”बीएसएफ के सभी जवानों और उनके परिवारों को बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स के स्थापना दिवस पर अनेक शुभकामनाएं. बीएसएफ ने देश को बचाने और प्राकृतिक आपदाओं के दौरान नागरिकों की सहायता करने में अपना पूर्ण योगदान दिया है. बीएसएफ पर भारत को गर्व है.”

 

गृहमंत्री और रक्षामंत्री ने भी दी शुभकामनाएं

इसके अलावा गृहमंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी बीएसएफ (BSF) के जवानों को नमन किया है. अमित शाह ने ट्विट कर लिखा, “बीएसएफ ने अपने शौर्य और पराक्रम से अपने आदर्श वाक्य ‘जीवन पर्यन्त कर्तव्य’ को सदैव चरितार्थ किया है. आज बीएसएफ के 56वें स्थापना दिवस पर मैं बल के सभी बहादुर जवानों को उनकी राष्ट्रसेवा और समर्पण के लिए नमन करता हूं.भारत को अपनी रणविजयी ‘सीमा सुरक्षा बल’ पर गर्व है.

वहीं, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्विट किया,”बीएसएफ के जवानों और उनके परिवारों को बीएसएफ के स्थापना दिवस पर हार्दिक बधाई. बीएसएफ भारत की रक्षा की पहली पंक्ति है और हमारी सीमाओं की सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. मैं उन्हें राष्ट्र की सेवा के लिए नमन करता हूं.”

 

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

वहीं बीएसएफ के डीजी राकेश अस्थाना ने जवानों के परिवार का अभिवादन किया है. साथ ही उन्होंने कहा कि हम देश को आश्वस्त करना चाहते हैं कि हमारे जवान पाकिस्तान की कायर घुसपैठ की कोशिशों से देश की रक्षा करने के लिए हमेशा खड़े रहेंगे.