Gujarat Exclusive > देश-विदेश > CAA फिर बना भाजपा का चुनावी मुद्दा, पश्चिम बंगाल में बोले नड्डा जल्द होगा लागू

CAA फिर बना भाजपा का चुनावी मुद्दा, पश्चिम बंगाल में बोले नड्डा जल्द होगा लागू

0
606
  • पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावी तैयारियों में जुटी भाजपा
  • ठंडे बस्ते में पड़े नागरिकता संशोधन कानून बना चुनावी मुद्दा
  • जेपी नड्डा ने कहा देश में जल्द लागू होगी सीएए
  • कोरोना की वजह से लागू करने में हुई देरी

अगले साल होने वाले पश्चिम बंगाल विधानसभा की तैयारी में भाजपा आज से ही जुट गई है. भाजपा ने एक बार फिर से नागरिकता संशोधन कानून को चुनावी मुद्दा बना लिया है.

कल पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कोरोना की वजह से नागरिकता संशोधन कानून को लागू करने में देरी हुई लेकिन जैसे-जैसे हालात सामान्य हो रहे हैं.

इसे लागू करने की तैयारी की जा रही है.

ठंडे बस्ते में पड़े नागरिकता संशोधन कानून बना चुनावी मुद्दा

जेपी नड्डा के ऐलान के बाद इस कानून का विरोध करने वाले लोग एक बार फिर से हरकत में आ गए हैं.

माना जा रहा है कि भाजपा अगर इस कानून को लागू करने की प्रक्रिया को शुरू करेगी तो उस कानून का विरोध करने वाला खेमा एक बार फिर से एक्टिव हो जाएगा.

मिल रही जानकारी के अनुसार उर्दू के मशहूर शायर मुनव्वर राणा की बेटी सुमैया राणा ने दावा किया है कि देश में सीएए और एनआरसी को किसी भी हाल में लागू नहीं करने दिया जाएगा.

मामता सरकार पर फूट डालो राज करो को लगाया आरोप

पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस की सरकार पर ‘फूट डालो और राज करो’ की नीति पर चलने का आरोप लगाया.

उन्होंने दावा करते हुए कहा कि भाजपा ही इकतौली पार्टी है जिसमें सबको साथ लेकर चला जा रहा है बाकि पार्टियां फूट डालकर राज करने की नीति अपना रही हैं.

कार्यकर्ताओं को नड्डा संबोधित करते हुए कहा कि पश्चचिम बंगाल में अगली सरकार भाजपा की होगी.

गौरतलब है कि अगले साल होने वाले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले जेपी नड्डा अपने एक दिवसीय बंगाल दौरे पर पहुंचे थे.

उन्होंने संगठनात्मक तैयारियों का जायजा लिया और विभिन्न समुदाय के लोगों से चर्चा करने के बाद उन्हें संबोधित भी किया.

अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक संसद से पारित होने के बाद कानून बन चुका है और भाजपा इसे लागू करने को लेकर प्रतिबद्ध है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब विधानसभा में पास हुआ कृषि कानून के खिलाफ प्रस्ताव, बना पहला राज्य