Gujarat Exclusive > देश-विदेश > LRD परीक्षा में महिलाओं को आरक्षण देने का मामला, भाजपा-कांग्रेस एक दूसरे पर लगा रहे हैं आरोप-प्रत्यारोप

LRD परीक्षा में महिलाओं को आरक्षण देने का मामला, भाजपा-कांग्रेस एक दूसरे पर लगा रहे हैं आरोप-प्रत्यारोप

0
665

गांधीनगर: LRD परीक्षा में महिलाओं को आरक्षण देने के मामले को लेकर पिछले करीब 45 दिनों से उम्मीदवार राज्य सरकार के सामने अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे है. ये उम्मीदवार आरोप भी लगा रहे हैं कि गुजरात की विजय रूपाणी सरकार अभी तक इस मामले पर ध्यान नहीं दे रही. वहीं इस मामले को लेकर राज्य के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि हाई कोर्ट के फैसले के बाद ही राज्य सरकार आवश्यक कार्रवाई करेगी. इतना ही नहीं उन्होंने आंदोलन के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया. जिसके जवाब में कांग्रेस ने भी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन कर पलटवार किया. प्रसे कान्फ्रेंस को संबोधित कर गुजरात कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमित चावड़ा ने नितिन पटेल को जवाब देते हुए सरकार पर जमकर हमला बोला. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि गुजरात सरकार अपने ही नेताओं की आवाज को दबाने की कोशिश कर रही है.

हाईकोर्ट में चल रहा है केस

इस मामले को लेकर मीडिया से बात करते हुए नितिन पटेल ने कहा, “अपील उच्च न्यायालय में चल रही है. मामला उच्च न्यायालय में विचाराधीन है. अदालत का जो भी फैसला आएगा उसी अनुसार सरकार आगे की कानूनी कार्रवाई करेगी.” केंद्र सरकार के EWS के अनुसार गुजरात में आर्थिक रुप से पिछड़े लोगों को सरकारी नौकरी में 10 फीसद आरक्षण दिया जा रहा है. गुजरात सरकार हर वर्ग के भावना को मद्देनजर रखते हुए संतुलन बनाने की कोशिश कर रही है, बावजूद इसके कुछ समुदाय नाराज होकर आंदोलन करता है और हाईकोर्ट में जाते हैं, फिलहाल ये मामला गुजरात हाईकोर्ट में चल रहा है. फैसला आने तक लोगों को इंतजार करना चाहिए. उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों से आंदोलन कर गुजरात में अशांति और विवाद पैदा करने की कोशिश हो रही है.

अतीत में होने वाले आंदोलन का जिम्मेदार कौन?

नितिन पटेल ने गुजरात में होने वाले आंदोलनों को लेकर कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस के लोग गुजरात के लोगों से दोहरा खेल खेल रहे हैं एक समाज के लोगों से कहते हैं कि आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन करो तो दूसरे समुदाय के लोगों से कहते हैं कि इस मांग का विरोध करो. उन्होंने 2015 में होने वाले पाटिदार आरक्षण की मांग को लेकर होने वाले आंदोलन का उदाहरण देते हुए कहा कि इस दौरान भी कांग्रेस ने ऐसा ही दोहरा रवैया अख्तियार किया था. साथ ही साथ उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस के नेता सरकार के साथ बैठकर आरक्षण पर चर्चा नहीं करते बल्कि समाज के बीच जाकर उन्हे भड़काने की कोशिश करते हैं.

भाजपा के विधायक-संसद ने दिया समर्थन

बीजेपी के विधायक-संसद ने आरक्षण के मामले को लेकर अपना समर्थन दिया है. इस मामले को लेकर नितिन पटेल ने कहा, ‘किसी को भी ऐसा नहीं करना चाहिए,आरक्षण की मांग करने वाले लोगों को चाहिए कि वह समाज के लोगों को एक साथ लेकर संबंधित मंत्री, संबंधित अधिकारी या फिर सीएम के साथ बैठक कर अपनी भावना को व्यक्त कर सकते हैं.

कांग्रेस ने सरकार पर किया हमला

गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल के इस बयान को लेकर गुजरात कांग्रेस की ओर से भी एक प्रेस कान्फ्रेंस का आयोजन किया गया, गुजरात कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा ने कहा, “सरकार उम्मीदवारों के साथ क्रूर मजाक कर रही है. LRD की भर्ती को केवल एक मजाक बना दिया गया है. योग्यता के नाम पर भ्रष्टाचार चलता है. सरकार अपने ही नेताओं के आवाज को दबाने की कोशिश कर रही है. भाजपा नेताओं के अलग-अलग बयान ने सभी समुदाय के लोगों में खलबली मच गई है. भाजपा नेता अपने बयान से समाज को गुमराह कर रहे हैं. सरकार एससी, एसटी और अन्य पिछड़े वर्ग के उम्मीदवारों की मांग को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की है.