Gujarat Exclusive > देश-विदेश > केंद्र सरकार का दावा, 30 दिन बाद भी कोरोना संक्रमण का ग्राफ नहीं गया ज्यादा ऊपर

केंद्र सरकार का दावा, 30 दिन बाद भी कोरोना संक्रमण का ग्राफ नहीं गया ज्यादा ऊपर

0
381

देश में कोरोना वायरस के मौजूदा हालात को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ केंद्र सरकार ने प्रेस कांफ्रेंस की. केंद्र सरकार के मुताबिक, कोरोना के मामलों की संख्या में वृद्धि का ग्राफ अधिक ऊपर न जाकर करीब रैखिक चल रहा है और यह घातक स्थिति नहीं है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में गुरुवार को कोरोना वायरस से संक्रमित कुल मरीज़ों का संख्या 21700 हो गई है. पिछले 24 घंटों में संक्रमण के 1229 मामले सामने आए हैं और 34 लोगों की मौत हुई है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल के मुताबिक, देश के 12 जिलों में कोरोना वायरस संक्रमण का 28 दिनों से कोई मामला सामने नहीं आया है. 78 जिलों में 14 दिनों से कोई मामला नहीं आया है. लॉकडाउन के 30 दिनों बाद उन्होंने हालात को लेकर प्रेस से बातचीत की. सीके मिश्रा ने कहा कि 30 दिन पहले जब 14915 टेस्ट किए थे तब भी 4-4.5 प्रतिशत पॉजिटिव आ रहे थे. आज जब 5 लाख से ज़्यादा टेस्ट किए तब भी इतने ही पॉजिटिव हो रहे हैं. हमारी स्थिति बहुत ज़्यादा नहीं बिगड़ी है.

 

देश के पर्यावरण सचिव सीके मिश्रा ने कहा कि जब इटली 31 मार्च को 5 लाख के टेस्ट पर पहुंचा तो करीब वहां एक लाख पॉजिटिव मरीज़ मिले. ब्रिटेन 20 अप्रैल को इतने टेस्ट कर पाया तो वहां एक लाख 20 हज़ार पॉजिटिव मिले. तुर्की में 16 अप्रैल को 5 लाख टेस्ट किए जिसमें 18 हज़ार पॉजिटिव आए. भारत ने 22 अप्रैल को 5 लाख टेस्ट किए और 20 हज़ार पॉजिटिव हैं. उन्होंने बताया कि 30 दिन में 33 गुनी टेस्टिंग कैपेसिटी बढ़ाई गई है. ये टेस्टिंग कैपेसिटी भी पर्याप्त नहीं है, और बढ़ाने की ज़रूरत है. इसे बढ़ा रहे हैं. पिछले महीने से डेडिकेटेड हॉस्पिटल की संख्या साढ़े तीन गुनी बढ़ाई है. आज की स्थिति में 3773 अस्पताल हैं और ये नम्बर हर रोज बदलता है. आइसोलेशन बेड 3.6 गुने बढ़ाए गए हैं.

आईसीएमआर के बलराम भार्गव ने कहा कि आज की तारीख में 325 लैब हैं. सवाल कि कब पीक आएगा? पर उन्होंने कहा कि फिलहाल स्थिर चल रहा है. अब भी 4.5 प्रतिशत केस आ रहे हैं. कर्व को फ्लैटन करने की राह पर हैं.  यह droplet इन्फेक्शन रोकने के लिए एक-दो मीटर की दूरी रखनी चाहिए.

डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा कि 80 फीसदी में माइल्ड इलनेस है. पांच फीसदी को वेंटिलेटर की जरूरत होती है. रैपिड टेस्टिंग किट्स से जांच पर अगले कुछ और दिनों तक रोक रहेगी. ICMR ने जो टीमें अभी फील्ड में भेजी हैं उनकी जांच प्रक्रिया अभी चल रही है. ICMR जल्द रैपिड टेस्ट के लिए निर्देश देगा. राज्यों से शिकायत मिलने के बाद ICMR ने दो दिन की रोक लगाई थी.

मालूम हो कि देश में गुरुवार को कोरोना वायरस से संक्रमित कुल मरीज़ों का संख्या 21700 हो पार कर गई. अब तक देश में कोरोना के कुल 21700 मामले सामने आ चुके हैं जबकि कुल 4325 मरीज ठीक हो चुके हैं. वहीं अब तक 686 की मौत हो चुकी है. पिछले 24 घंटों में संक्रमण के 1229 मामले सामने आए हैं और 34 लोगों की मौत हुई है.

कोरोना संकट के कारण अमेरिका में एक साल के लिए स्कूल-कॉलेज बंद करने के आदेश