Gujarat Exclusive > राजनीति > JNU में CAA पर भड़के चिदंबरम, जल्दबाजी में बिल पास कराने पर सरकार पर उठाए सवाल

JNU में CAA पर भड़के चिदंबरम, जल्दबाजी में बिल पास कराने पर सरकार पर उठाए सवाल

0
245

नई दिल्ली : नागरिकता कानून को लेकर लगातार बहस जारी है और इसको लेकर विरोध प्रदर्शन कम होने का नाम नहीं ले रहा. इसी बीच जेएनयू में साबरमती हॉस्टल के बाहर एनएसयूआई ने सीएए, एनआरसी और एनपीआर को लेकर एक कार्यक्रम आयोजित किया, जिसे पी जिदंबरम ने संबोधित किया. चिदंबरम ने कहा “एनपीआर एनआरसी और सीएए तीनों अलग हैं लेकिन तीनो इंटरकनेक्टेड है. संविधान में नागरिकता का प्रावधान है और पूरे विश्व में हर जगह देश के अंदर रहने वाले नागरिकों को नागरिकता का प्रावधान होता है अगर किसी के पिता, पूर्वज भारत में रह चुके हैं उनके बच्चे यहीं के नागरिक होते हैं.”

चिदंबरम ने कहा कि बाबा साहेब द्वारा तीन महीने का व़क्त लगा था संविधान में नागरिकता के अनुच्छेद को बनाने में लेकिन 8 दिसंबर को सीएए ड्राफ्ट हुआ, अगले दिन लोकसभा में पास किया गया और 11 दिसंबर को राज्यसभा में पास किया गया, जबकि बाबा साहेब को 3 महीने लगे थे. उन्होंने कहा कि सिटिजनशिप को टेरिटरी बेस की जगह रिलीजियस बेस पर दिया जा रहा है और कई देशों में धर्म के आधार पर नागरिकता दी जाती है, लेकिन भारत इस आधार पर नहीं बना था. बीजेपी ने तीन देशों को अपने नागरिक के आधार पर चुना. पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान हमारे पड़ोसी हैं तो भूटान, म्यांमार, चीन, श्रीलंका, नेपाल क्या हमारे पड़ोसी नहीं हैं? अगर अल्पसंख्यकों के रिलिजियस परसिक्यूशन पर ही नागरिकता दे रहे हैं तो फिर अहमदिया का पाकिस्तान में, रोहिंग्या का म्यांमार में, तमिल हिंदू-तमिल मुसलमान के लोगों पर क्यों नहीं सोच रहे?”

पूर्व वित्त मंत्री ने कहा, “सीएए बहुत पुअर ड्राफ्ट है लेकिन हमारी आपत्ति है कि परसिक्यूशन केवल धार्मिक ही क्यों, भाषा, रेस, लिंग, राजनीतिक भेदभाव के आधार पर क्यों नहीं? कोई भी मुझे यह बता दे कि कांग्रेस के किसी नेता ने तीनों देशों के हिंदू शरणार्थियों को नागरिकता देने से मना किया हो, हम तो स्वागत करते हैं लेकिन और भी जो अन्य तरीके से परसिक्यूटेड हैं तो उनको भी बिल में शामिल कीजिए.” वहां मौजूद छात्रों को चिदंबरम ने एक भी किस्सा सुनाया.