Gujarat Exclusive > देश-विदेश > चीन पर फिर से बरसे अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप, कहा- रिश्ते सुधारने में मदद को तैयार

चीन पर फिर से बरसे अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप, कहा- रिश्ते सुधारने में मदद को तैयार

0
719
  • चीन पर एक बार फिर से बरसे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप
  • कहा पूरी दुनिया सिर्फ चीन की वजह से कोरोना महामारी से परेशान
  • पीएम मोदी की तारीफ में पढ़े कसीदे
  • कहा चुनाव में भारतीय लोगों का मुझे ही मिलेगा वोट

इस साल के आखिर में होने वाले चुनाव से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर से चीन पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि चीन की वजह से आज पूरी दुनिया कोरोना महामारी के दौर से गुजर रहा है.

इतना ही नहीं उन्होंने एक बार फिर से कहा कि दोनों देशों के बीच शांति स्थापित करने के लिए अमेरिका मदद के लिए तैयार है.

उन्होंने कहा कि चीन और भारत के बीच जारी गतिरोध अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है.

भारत- चीन के बीच तकरार अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रहा

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को अपने संबोधन में कहा कि पश्चिमी हिमालय से गुजरने वाली पर्वत सीमा की वजह से भारत और चीन के बीच विवाद चल रहा है.

लेकिन अमेरिका इन दोनों के बीच तनावपूर्ण संबंधों को सुधारने के लिए तैयार है. एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि भारत और चीन के बीच जो कुछ चल रहा है वह बहुत ही खराब स्थिति है.

हम चीन और भारत के संबंध में मदद करने के लिए तैयार हैं. इसके लिए हम दोनों देशों से इस बारे में बातचीत भी कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: सेना प्रमुख नरवणे का बड़ा बयान, सीमा पर स्थिति तनावपूर्ण लेकिन हम तैयार

ट्रंप ने पीएम मोदी को बताया महान व्यक्ति

इतना ही नहीं उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ में कसीदे पढ़ते हुए कहा कि वह एक महान व्यक्ति है. उन्होंने मुझे समर्थन दिया है इसलिए मुझे उम्मीद है कि अमेरिका में रहने वाले भारतीय लोग मुझे वोट करेंगे.

ट्रंप ने अपने भारत यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि मैं महामारी से ठीक पहले भारत गया था. वहां के लोग अविश्वसनीय हैं.

प्रधानमंत्री मोदी मेरे अच्छे मित्र हैं और वे बहुत अच्छा काम कर रहे हैं.

गौरतलब है कि जून महीने में पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के कायराना हमले के बाद भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे. उस दौर से ही दोनों देशों के बीच के रिश्ते तनावपूर्ण हो गए हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने उस दौरान मध्यस्थता करने को तैयारी दिखाई थी. लेकिन भारत और चीन दोनों देशों ने चीन के इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

रूस दौरे पर गए राजनाथ सिंह मास्को में चीनी रक्षा मंत्री से कर सकते हैं मुलाकात