Gujarat Exclusive > देश-विदेश > चीन ने दी भारत को चेतावनी, सीमा पर जारी तनाव के लिए भारत जिम्मेदार

चीन ने दी भारत को चेतावनी, सीमा पर जारी तनाव के लिए भारत जिम्मेदार

0
522
  • सीमा विवाद पर चीन ने भारत को ठहराया जिम्मेदारी
    कहा हम अपनी क्षेत्र की रक्षा के लिए तैयार
    रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात के बाद
    चीन रक्षा मंत्रालय ने जारी किया बयान

भारत और चीन के बीच सीमा पर विवाद गहराता जा रहा है. चीन और भारत हिंसक मामले को लेकर एक दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं.

इस बीच जानकारी मिल रही है कि मॉस्को में चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंगही ने भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करने के बाद एक बयान जारी किया है.

करीब दो घंटों तक चले इस बैठक में चीन ने तनाव बढ़ाने के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया.

इतना ही नहीं चीन ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि चीन अपनी एक इंच जमीन नहीं छोड़ सकता.

रूस में रक्षा मंत्री से बैठक के बाद चीन ने जारी किया बयान

शंघाई सहयोग संगठन की शिखर वार्ता में हिस्सा लेने के लिए तीन दिवसीय रूस यात्रा पर पहुंचे थे. इस दौरान सीमा पर जारी तनाव के बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने चीनी रक्षामंत्री से मुलाकत की.

मुलाकात के बीच चीनी रक्षा मंत्रालय की ओर से बयान जारी किया गया है. बयान के मुताबिक ” सीमा पर तनाव के पीछे भारत जिम्मेदार है.

चीन की जमीन पर एक इंच भी कब्जा नहीं किया जा सकता है. क्योंकि चीनी सेना अपनी क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करने में सक्षम है.

यह भी पढ़ें: गलवान घाटी हिंसक झड़प नरम पड़ा चीन का रुख, राजदूत ने कहा दुर्भाग्यपूर्ण घटना

चीन ने दी भारत को चेतावनी, भारत ने दिया कड़ा जवाब

सैन्य स्तर पर होने वाली बातचीत के बीच चीन की ओर जारी बयान पर भारतीय सेना ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भारत चीन के हर चुनौती को उसी की भाषा में जवाब देने को तैयार है.

हमारे लिए सबसे पहले देश हैं. सेना हर चुनैती का सामने करने में सक्षम है.

हिंसक झड़प के लिए चीन नहीं भारत जिम्मेदार

माना जा रहा था कि रूस में होने वाली इस बैठक में सीमा विवाद का कुछ अच्छा हल निकलेगा. लेकिन आज भी चीन अपनी हैकड़ी से बाज नहीं आ रहा है.

इससे पहले भी भारत में चीन के राजदूत ने कहा था कि सीमा पर तनाव के लिए भारतीय सेना ही जिम्मेदार है.

चीनी दूतावास की मैगजीन में छपे अपने लेख में जोर देते हुए कहा कि अगर इस घटना को गहराई से देखा जाए तो पता चलता है कि चीन नहीं बल्कि इस मामले को लेकर भारत जिम्मेदार है.

भारतीय सेना ने उकसावे के लिए एलएसी को पार किया और चीनी सैनिकों पर हमला किया.

भारतीय सेना ने सीमा समझौता का उल्लंघन किया इस लिए मामले की जांच होनी चाहिए साथ ही साथ जिम्मेदार भी ठहराया जाना चाहिए.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

रूस दौरे पर गए राजनाथ सिंह मास्को में चीनी रक्षा मंत्री से कर सकते हैं मुलाकात