Gujarat Exclusive > देश-विदेश > मोदी सरकार के एक और मंत्री का विवादित बयान, असली किसान खेतों में कर रहे हैं काम

मोदी सरकार के एक और मंत्री का विवादित बयान, असली किसान खेतों में कर रहे हैं काम

0
333

किसानों के विरोध प्रदर्शन 11 वें दिन में प्रवेश कर चुका है. किसान संगठन के लोग इस कानून को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. Conflicting statement Minister 

वहीं केंद्र की मोदी सरकार बीच का रास्ता निकालने के लिए किसान संगठनों से लगातार बातचीत कर रही है. हालंकि अभी तक होने वाली बातचीत में अभी तक कोई ठोस नतीजा नहीं निकला है.

इस बीच केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी का किसानों के आंदोलन को लेकर बड़ा बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि देश के असली किसान अपने खेतों में काम कर रहे हैं.

विपक्ष किसानों को भड़काने की रही है कोशिश Conflicting statement Minister 

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि विपक्ष पर किसानों को भड़काने का काम कर रहा है. जबकि देश का किसान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ है, और देश के असली किसान इस कानून के पक्ष में हैं और अपने खेतों में काम कर रहे हैं.

कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा, “मुझे लगता है कि विपक्ष किसानों को भड़काने की कोशिश कर रही है. देश का असली किसान इस कानून के पक्ष में हैं.

किसानों को किसी के झांसे में आने की जरूरत नहीं है. पीएम मोदी जो कहते हैं वह करके रहते हैं. एमएसपी के बारे में लिख कर भी दे सकते हैं.

असली किसान कर रहे हैं अपने खेतों में काम Conflicting statement Minister 

मोदी सरकार के एक और मंत्री का विवादित बयान सामने आया है. केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने तीनों कृषि कानूनों का समर्थन करते हुए कहा कि मुझे लगता है कि देश के असली किसान पीएम मोदी के इस फैसले के साथ हैं और वह अपने खेतों में काम कर रहे हैं.

इस मौके पर उन्होंने कहा कि इस बिल से किसान को आज़ादी मिली है. इतने साल से किसान संघ सही मूल्य के लिए आंदोलन करते आए हैं. Conflicting statement Minister 

देश के असली किसानों को इस कानून से कोई परेशानी नहीं वह अपने खत में काम कर रहे हैं. किसानों को इस कानून का राजनीतिकरण नहीं करने दिया जाना चाहिए.

गौरतलब है कि किसान तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

इससे पहले मोदी सरकार के कुछ अन्य मंत्रियों ने किसानों के विरोध प्रदर्शन को लेकर विवादस्पद बयान दिया था इसका कांग्रेस ने विरोध भी किया था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

किसान आंदोलन का 11वां दिन, बातचीत बेनतीजा होने पर आंदोलन तेज