Gujarat Exclusive > राजनीति > कांग्रेस ने किसानों के भारत बंद ऐलान को दिया समर्थन, 8 दिसंबर को करेंगे प्रदर्शन

कांग्रेस ने किसानों के भारत बंद ऐलान को दिया समर्थन, 8 दिसंबर को करेंगे प्रदर्शन

0
444

कृषि कानून का विरोध कर रहे किसानों ने विरोध प्रदर्शन को राष्ट्र व्यापी बनाने के लिए 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान किया है. Congress farmers support

किसानों के भारत बंद का समर्थन का कांग्रेस ने ऐलान किया है.

कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने कहा है कि पार्टी के तमाम कार्यकर्ता 8 दिसंबर को किसानों के भारत बंद का समर्थन कर जगह-जगह पर विरोध प्रदर्शन करेंगे.

8 दिसंबर को किसानों ने भारत बंद का किया ऐलान

कांग्रेस के साथ ही अन्य राजनीतिक दलों ने भी किसानों के भारत बंद का समर्थन किया है. देशभर के किसान संगठनों ने 8 दिसंबर को भारत बंद का आह्वान किया है.

इसमें पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान समेत कई राज्यों के किसान संगठन शामिल हैं. मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के प्रवक्ता ने इस सिलसिले में जानकारी देते हुए कहा कि पार्टी भारत बंद का समर्थन करने का फैसला किया है. Congress farmers support

हम अपने पार्टी कार्यालयों पर विरोध प्रदर्शन करेंगे. यह किसानों को राहुल गांधी के समर्थन को मजबूत करने वाला कदम होगा.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार के एक और मंत्री का विवादित बयान, असली किसान खेतों में कर रहे हैं काम

कांग्रेस के साथ अन्य राजनीतिक दलों ने समर्थन देने का किया ऐलान  Congress farmers support

इतना ही नहीं किसानों के भारत बंद के फैसले को लेकर राजनीतिक दल के साथ ही साथ अन्य संगठनों ने समर्थन देने का ऐलान किया है. जिसमें 400 से ज्यादा किसान संगठनों का नाम शामिल है.

अगर किसानों का साथ देने वाली राजनीतिक पार्टियों की बात की जाए तो कांग्रेस के अलावा टीएमसी, राष्ट्रीय लोक दल, रालोसपा और सपा का नाम शामिल है.

वहीं कुछ लेफ्ट पार्टियों ने भी किसानों का साथ देने का ऐलान किया है. Congress farmers support

बातचीत एक बार फिर साबित हुई बेनतीजा

इस बीच किसानों ने अब किसानों ने 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान किया है. इसी के साथ सबकी निगाहें अब 9 दिसंबर को सरकार के साथ होने वाली किसानों पर बातचीत पर टिकी है.

शनिवार को होने वाली बैठक करीब चार घंटों तक चली जिसमें तीन केंद्रीय मंत्रियों के साथ कई वरिष्ठ अधिकारियों ने हिस्सा लिया.Congress farmers support

बातचीत के बाद किसान नेताओं ने कहा कि सरकार ने इस मुद्दे के समाधान के लिए अंतिम प्रस्ताव पेश करने के वास्ते आंतरिक चर्चा के लिए और समय मांगा है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

किसान आंदोलन का 11वां दिन, बातचीत बेनतीजा होने पर आंदोलन तेज