Gujarat Exclusive > गुजरात > परेश धनाणी ने कसा दलबदलुओं पर तंज, कहा- गांडो हालशे पण गद्दार नहीं

परेश धनाणी ने कसा दलबदलुओं पर तंज, कहा- गांडो हालशे पण गद्दार नहीं

0
1021
  • विधानसभा में प्रतिपक्ष नेता परेश धनाणी ने दलबदु नेताओं पर बोला हमला
  • गद्दार_जयचंदो_जवाब_आपो के साथ परेश धनाणी का नया अभियान
  • कांग्रेसी विधायकों के इस्तीफे की वजह से हो रहा है उपचुनाव

अहमदाबाद: गुजरात विधानसभा की आठ सीटों के लिए उपचुनाव होने वाले हैं. कांग्रेस और भाजपा दोनों ही इस चुनाव में कामयाबी हासिल करने के लिए एड़ी-चोटी का दम लगा रही हैं.

दोनों पार्टियों ने अपने स्टार प्रचारकों को भी मौदान में उतार दिया है. गुजरात विधानसभा में विपक्ष के नेता परेश धनाणी ने एक बार फिर ट्वीट कर गुजरात की राजनीति में तहलका मचा दिया है.

इससे पहले भी परेश धनाणी ने ‘गद्दार जयचंदो जबाव आपो’ के नाम से ट्वीट कर एक नया अभियान चलाया था.

धानाणी ने ट्वीट कर बोला हमला

राजनीतिक बयानबाजी से उपचुनाव से पहले गुजरात का राजनीतिक माहौल गरम हो गया है. ऐसे में विधानसभा में विपक्ष के नेता परेश धनाणी ने एक बार फिर सोशल मीडिया पर ट्वीट किया है.

उन्होंने ट्वीट कर लिखा पागल चलेंगे लेकिन गद्दार नहीं. एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा गद्दारों के खिलाफ गुजरात की लड़ाई. पागल हों तो भी चलेगा लेकिन गद्दार तो बिल्कुल नहीं.”

‘गद्दार जयचंदो जबाव आपो’

राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के 8 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था. कांग्रेस के 5 पूर्व विधायकों को भाजपा ने उपचुनाव में अपना उम्मीदवार बना दिया है.

परेश धनाणी इस मामले को लेकर ट्वीट कर पार्टी से गद्दारी करने वाले नेताओं पर हमला बोला है. उन्होंने ट्वीट कर हैशटैग दिया ‘गद्दार जयचंदो जबाव आपो’. धानाणी 17 अक्टूबर से 12 बार ट्वीट कर दलबदलुओं पर हमला बोला है.

राज्यसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के आठ विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था.

जिसमें अबडासा से प्रद्युम्नसिंह जाडेजा, मोरबी से ब्रिजेश मेरजा, करजण से अक्षय पटेल, गढ्डा से प्रवीण मारु, धारी से जे.वी. काकडिया, कपराडा से जीतु चौधरी, डांग से मंगल गावित और लिंबडी से सोमा पटेल का नाम शामिल है.

कांग्रेस जहां इन सीटों को एक बार फिर जीतने के लिए पूरी ताकत लगा रही है. वहीं भाजपा भी इन सीटों पर कामयाबी हासिल करने के लिए रणनीति बना रही है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

नवरात्रि में गरबा के बाद दशहरा में सार्वजनिक रूप से फाफड़ा-जलेबी खाने पर प्रतिबंध