Gujarat Exclusive > गुजरात > अहमदाबाद के 35 फीसदी लोग कोरोना से हो चुके हैं संक्रमित: विधायक इमरान खेड़ावाला

अहमदाबाद के 35 फीसदी लोग कोरोना से हो चुके हैं संक्रमित: विधायक इमरान खेड़ावाला

0
1922
  • AMC और राज्य सरकार कोरोना संक्रमितों का सही आकड़ा छिपा रही है

  • अहमदाबाद एक बार फिर से बना रहा है कोरोना का हॉटस्पॉट

  • अहमदाबाद की हालत चीन के वुहान जैसी हो गई है

 

अहमदाबाद: गुजरात में कोरोना का कहर दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं. पिछले कुछ दिनों में राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या एक हजार से ज्यादा एक दिन में दर्ज की जा रही है.

डायमंड सिटी सूरत में भी कोरोना के नए मामलों की संख्या में भी भारी वृद्धि दर्ज की जा रही है. अहमदाबाद आज भी कोरोना संक्रमितों की संख्या के मामले को लेकर पहले पायदान पर है.

ऐसे में कांग्रेसी विधायक इमरान खेड़ावाला ने राज्य सरकार पर एक बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि अहमदाबाद के 35 प्रतिशत लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं.

तालाबंदी के वक्त गुजरात में दर्ज होते थे 300 के करीब कोरोना के मामले

तालाबंदी के दौरान गुजरात में प्रतिदिन करीब 300 कोरोना के नए मामले दर्ज किए जा रहे थे. लेकिन जब से अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हुई है तब से राज्य में कोरोना मामलों में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है.

राज्य में इन दिनों कोरोना के 1000 से अधिक मामले प्रतिदिन दर्ज किए जा रहे हैं. इससे पहले लोगों में चर्चा थी कि राज्य सरकार कोरोना संक्रमितों की संख्या और मौत के आंकड़े छिपा रही है.

इस बीच जमालपुर-खड़िया विधानसभा सीट के कांग्रेसी विधायक इमरान खेड़ावाला ने जिला प्रशासन और राज्य सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि

कोरोना के आंकड़ों में हेरफेर किया जा रहा है और संक्रमितों के सही आंकड़ा छिपाया जा रहा है. उन्होंने कहा वर्तमान में 35 अहमदाबाद के लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं.”

यह भी पढ़ें: अहमदाबाद रेलवे स्टेशन पर एयरपोर्ट जैसी सुविधा, बना देश का पहला स्टेशन

अहमदाबाद की हालात वुहान जैसी- इमरान खेड़ावाला

इमरान खेड़ावाला ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि कोरोना के आंकड़ों में हेरफेर किया जा रहा है. एएमसी और सरकार अहमदाबाद में कोरोना संक्रमण के आंकड़े को छिपा रही है.

वर्तमान में अहमदाबाद के 35 प्रतिशत कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. अगर ज्यादा परीक्षण हो तो संक्रमितों की संख्या 35 प्रतिशत से भी ज्यादा हो सकती है.

उन्होंने आगे आरोप लगाया कि सरकार द्वारा कुल सकारात्मक संक्रमितों की संख्या की गिनती नहीं की गई. रैपिड टेस्ट में आने वाले पॉजिटिव लोगों को होम क्वारंटाइन कर दिया जाता है.

इसीलिए अहमदाबाद की हालात वुहान जैसी बन गई है.

उल्लेखनीय है कि सूरत से पहले गुजरात के अहमदाबाद शहर में सबसे ज्यादा मामले एक दिन में दर्ज किए जा रहे थे. लेकिन अचानक सूरत में कोरोना के अधिक मामले दर्ज किए गए.

जिसके बाद पक्ष और विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया. विपक्ष ने राज्य सरकार और जिलना प्रशासन पर कोरोना संक्रमितों की संख्या में हेरफेर करने का आरोप लगाया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

वडोदरा सेंट्रल जेल में कोरोना विस्फोट, एक साथ 18 कैदी हुए संक्रमित